सुरेश चौधरी
नोएडा(युगकरवट)। जनपद गौतमबुद्धनगर में कोरोनावायरस की सुनामी जारी है। बीते 21 दिनो के अंदर कोविड-19 के संक्रमण की वजह से रिकार्ड 207 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 24,402 लोग संक्रमित पाए गए हैं। कोरोना के पहली लहर में एक वर्ष मे मात्र 91 लोगों की मौत हुई थी। जबकि दूसरी लहर मे 21 दिन के अंदर अब तक 207 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोनावायरस की दूसरी सुनामी ने मानव समाज को भयभीत कर दिया है। डॉक्टर मौत के लिए, ऑक्सीजन की कमी तथा हृदय घात को जिम्मेदार बता रहे हैं। आलम यह है कि मरीजों को ना तो बेड मिल रहा है, ना दवाई मिल रही है, ना ही उन्हें ऑक्सीजन मिल रहा है।
कोरोना वायरस की रफ्तार दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। विगत 21 दिन में जनपद गौतमबुद्धनगर में कोविड-19 के संक्रमण की वजह से जहां 207 लोगों की मौत हुई है, वहीं 24,402 लोग संक्रमित पाए गए हैं। जिला सूचना अधिकारी राकेश चौहान द्वारा जारी किए गए कोविड-19 के बुलेटिन के अनुसार 18 अप्रैल दिन रविवार को गौतमबुद्धनगर में कोविड-19 से संक्रमित 700 मरीज पाए गए, जबकि 3 लोगों की उपचार के दौरान मौत हो गई। 19 अप्रैल दिन सोमवार को गौतमबुद्धनगर में कोविड-19 से संक्रमित 425 मरीज पाए गए जबकि 3 लोगों की मौत हो गई। 20 अप्रैल दिन मंगलवार को यहां पर 640 लोग कोविड-19 से संक्रमित पाए गए, जबकि 8 लोगों की कोरोनावायरस की वजह से मौत हो गई। 21 अप्रैल दिन बुधवार को 536 मरीज कोरोनावायरस से संक्रमित पाए गए, जबकि 4 लोगों की मौत हो गई।
22 अप्रैल दिन बृहस्पतिवार को 530 लोग कोविड-19 से संक्रमित पाए गए जबकि 11 लोगों की उपचार के दौरान मौत हो गई। 23 अप्रैल दिन शुक्रवार को 1,064 मरीज कोरोनावायरस से संक्रमित पाए गए जबकि 9 लोगों की मौत हो गई। 24 अप्रैल दिन शनिवार को 912 लोग कोविड-19 से संक्रमित पाए गए जबकि 6 लोगों की मौत हो गई। 25 अप्रैल दिन रविवार को 1310 संक्रमित मरीज पाए गए जबकि 11 लोगों की मौत हो गई। 26 अप्रैल को 655 लोग संक्रमित पाए गए जबकि 15 लोगों की कोरोनावायरस के संक्रमण की वजह से मौत हो गई। 27 अप्रैल को 971 लोग कोविड-19 से संक्रमित पाए गए जबकि 12 लोगों की कोविड-19 के संक्रमण की वजह से मौत हो गई। 28 अप्रैल को कोरोना वायरस से संक्रमित 865 मरीज पाए गए जबकि 11 लोगों की उपचार के दौरान मौत हो गई। 29 अप्रैल को 1478 लोग कोविड-19 से संक्रमित पाए गए जबकि 11 लोगों की मौत हो गई। 30 अप्रैल को 1310 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए, जबकि 10 लोगों की मौत हो गई। 1 मई को 1478 लोग कोविड-19 से संक्रमित पाए गए, जबकि 13 लोगों की मौत हो गई। 2 मई को 1571 लोग कोविड-19 से संक्रमित पाए गए, जबकि 12 लोगों की मौत हो गई। 3 मई को 1446 लोग कोविड-19 से संक्रमित पाए गए, जबकि 13 लोगों की मौत हो गई। 4 मई को जनपद गौतमबुद्धनगर में 1676 मरीज कोविड-19 से संक्रमित पाए गए, जबकि 13 लोगों की मौत हुई। 5 मई को 1761 मरीज संक्रमित पाए गए जबकि 11 लोगों की मौत हुई। 6 मई को 1703 लोक संक्रमित पाए गए, जबकि 10 लोगों की कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से मौत हुई। 7 मई को 1288 संक्रमित मरीज पाए गए, जबकि 12 लोगों को कोरोनावायरस के संक्रमण की वजह से मौत हुई। 8 मई को कोविड-19 से संक्रमित 1157 मरीज मिले जबकि 11 लोगों की मौत हुई है। यह आंकड़ा तो सरकारी है। गैर सरकारी आंकड़ों के अनुसार मौतों का आंकड़ा इससे कई गुना ज्यादा है। उत्तर प्रदेश के हाइटेक सिटी गौतमबुद्धनगर में कोविड संक्रमित मरीजों की संख्या बेतहाशा गति से बढ़ रही है। लोगों की सांसो पर संकट बरकरार है। यहां पर ना तो ढंग से दवाइयां मिल रही है, और ना ही अस्पतालों में जगह। आलम यह है कि ऑक्सीजन गैस के लिए लोग दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं। जिला प्रशासन ने यहां के सभी ऑक्सीजन बनाने वाले प्लांटों को अपने कब्जे में ले लिया है। इससे उन लोगो को भारी परेशानी हो गई है, जिन लोगों के घरों मे ऑक्सीजन के सहारे मरीज पहले से चल रहे थे, किसी की कोई सुनने वाला नहीं है। लोग पागलों की तरह सड़कों पर इधर से उधर भाग रहे हैं। स्थिति इतनी भयावह है कि लोग अपने परिजनों को अपने सामने ही बिन पानी मछली की तरह तड़पते हुए देख रहे हैं।
कोरोना वायरस मरने वालो के यह आंकड़े तो सरकारी है। वैसे बताया जा रहा है कि यहां के श्मशान घाटों पर भी भारी संख्या में कोविड-19 से संक्रमित लोगों का शव पहुंच रहा है। कुछ लोग अस्पताल में पहुंच रहे हैं, जबकि कुछ लोगों का देहांत घरों पर ही हो जा रहा है। सूत्रों का दावा है कि जिन लोगों की अस्पतालों में मौत हो रही है, उन्ही की सूचना सरकारी आंकड़ों में आ रही है, जबकि होम आइसोलेशन के दौरान मरने वाले लोगों की जानकारी जिला प्रशासन मीडिया या अन्य मार्ग प्लेटफार्म पर उपलब्ध नहीं करा रहा है। इस बाबत पूछने पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ दीपक ओहरी का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग के पास पर्याप्त मात्रा में दवाएं तथा बेड उपलब्ध है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि वे कोरोनावायरस को लेकर चिंतित ना हो। स्वास्थ्य विभाग लगातार लोगो का ध्यान रख रहा है। उन्होंने बताया कि अस्पतालों को आदेशित किया गया कि वे अस्पताल में भर्ती मरीजों के परिजन से ऑक्सीजन ना मंगवाए, अस्पताल ऑक्सीजन की व्यवस्था खुद करें।