दोहरे हत्याकांड के बाद निवाड़ी क्षेत्र में दहशत
मोदीनगर (युग करवट)। खिंदौड़ा धौलड़ी मार्ग पर आम के बाग में पानी देने को लेकर पिता और दो बेटों को गोली मार दी गई जिसमें पिता व एक बेटे की मौत हो गई जबकि घायल दूसरे बेटे का अस्पताल में ईलाज चल रहा है। घटना को अंजाम देने बाद आरोपी तीनों को रजवाहे में फेंककर फरार हो गए। मामला अलग-अलग सम्प्रदाय से जुड़ा होने के कारण क्षेत्र में कई थानों की पुलिस फोर्स तैनात की गई है। उधर घटना के विरोध और आरोपियों पर कार्रवाई को लेकर धौलड़ी निवाडी मार्ग पर जाम भी लगाया गया है।
जानकारी के मुताबिक धौलड़ी निवासी पप्पू ने धौलड़ी खिंदौड़ा मार्ग स्थित खिंदौड़ा निवासी वेदप्रकाश त्यागी का बाग ठेके पर लिया हुआ है। शुक्रवार शाम करीब पांच बजे बाग में पानी देने को लेकर धौलड़ी निवासी पप्पू का कुछ लोगों से विवाद हो गया था। उस समय तो मौके पर पहुंचे वेदप्रकाश त्यागी व अन्य ने मामला शांत करा दिया। बताया गया है कि शुक्रवार रात करीब 11 बजे जब पप्पू अपने बेटे चांद और राजा के साथ मजदूरों का खाना लेकर बाइक से बाग में जा रहा था। इसी दौरान रजवाहे के निकट घात लगाए बैठे बदमाशों ने तीनों पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। परिजनों के मुताबिक आरोपियों ने गोली मारने के बाद पप्पू, राजा और चांद को नहर में फेंक दिया। गोलियों की आवाज सुनकर जब तक ग्रामीण वहां पहुंचे आरोपी फरार हो चुके थे। घटना की सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने बदमाशों की तलाश की किंतु उनका सुराग नहीं लग सका। इसके बाद पुलिस ने चांद (22) को घायल अवस्था में रजवाहे से निकालकर अस्पताल पहुंचाया और राजा (25) के शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया।
इसके बाद आजतडक़े डॉग स्क्वॉयड की मदद से पप्पू (52) के शव की तलाश की गई घंटों बाद घटनास्थल से कुछ दूर पप्पू का शव बरामद कर लिया गया। ग्रामीणों ने शव के साथ खिंदौड़ा धौलड़ी मार्ग पर जाम लगा दिया। मौके पर पहुंचे डीसीपी विवेक चंद्र यादव व एसीपी ज्ञानप्रकाश रॉय के समझाने के बावजूद ग्रामीण नहीं माने और शव को लेकर मुरादनगर स्थित सोनिया विहार रेगुलेटर पर पहुंच गए।

जहां पुलिस के साथ उनकी झड़प हुई जिसके बाद पुलिस को हल्का बल प्रयोग करना पड़ा जिसके बाद पुलिस ने शव कब्जे में लेकर उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।
इस मामले में डीसीपी विवेक चंद्र यादव का कहना है कि पुलिस ने तीन लोगों को हिरासत में लिया है जांच के बाद उचित कार्रवाई की जाएगी।
हमलावरों ने किये १७ राउंड फायर
पुलिस सूत्रों के मुताबिक घटना में आरोपियों ने ताबड़तोड़ 17 गोलियां तीनों पर बरसाई जिसमें पिता व एक बेटे की मौके पर ही मौत हो गई जबकि चार गोलियां लगने के बाद छोटा बेटा चांद अस्पताल में जिंदगी की जंग लड़ रहा है। बड़ा सवाल ये भी है कि मामूली विवाद में इतनी बड़ी घटना को क्यों अंजाम दिया गया। ऐसे विवाद में लाठी डंडों से मारपीट होना तो माना जा सकता है लेकिन ताबड़तोड़ 17 गोलियां चलाकर दोहरे हत्याकांड को अंजाम देना बदमाशों के बुलंद हौसलों को दर्शाता है। इससे घटना से ये भी जाहिर है कि बदमाशों के पास अत्याधुनिक हथियार होने की भी पूरी संभावना है। घटना के बाद परिवार के साथ पूरे गांव में मातम छाया हुआ है।