युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। गालंद में डंपिंग ग्राउंड की जमीन की बाउंड्री को लेकर नगर निगम बुरी तरह से फंस गया है। अपनी ही जमीन पर बाउंड्री कराने के लिए नगर निगम हापुड़ प्रशासन से पुलिस की मांग कर रहा है। वहीं दूसरी और आसपास के गांवों के लोगों ने दो टूक कर दिया कि किसी भी सूरत में डंपिंग ग्राउंड की बाउंड्री नहीं होने दी जाएगी। गालंद में नगर निगम की करीब 45 एकड़ जमीन है। इसी जमीन पर सॉलिडवेस्ट मैनेजमेंट प्लांट लगाया जाना है। प्लांट लगाने के लिए पहले ही सरकार और नीदरलैंड की कंपनी जीसी इंटरनेशनल के बीच करार साइन हो चुका है। इससे पहले नगर निगम ने इस जमीन के एक हिस्से पर कूड़ा डाला है। जिसको लेकर विवाद पैदा हो गया है। तब से ही गालंद के आसपास के गांवों के लोग मसूरी फ्लाई ओवर के नीचे प्रदर्शन कर रहे है।
लोगों का कहना है कि वह किसी भी सूरत में गालंद में कूड़ा नहीं डालने देंगे। इस मामले में पहले भी लोगों के खिलाफ पिलखुवा थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। अब नगर निगम गालंद में फिर से अपनी जमीन पर बाउंड्री तैयार कराने की कोशिश में लगा है। इसको लेकर एक बार फिर से विवाद पैदा हो गया है। गालंद संघर्ष समिति के अध्यक्ष राजू तोमर का कहना है कि नगर निगम को बाउड्री करने का मकसद बताना होगा। अगर ऐसा नहीं किया जाएगा तो किसी भी सूरत में नगर निगम को गालंद में जमीन की बाउंड्री नहीं करने देगा।