रविवार को होगा बाकी सीटों पर प्रत्याशियों पर मंथन
सुब्रत भट्टाचार्य
गाजियाबाद(युग करवट)। उत्तर प्रदेश की 51 लोकसभा सीटों समेत पूरे देश की 195 सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा के बाद कल यानि रविवार को भाजपा केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक नई दिल्ली में होने वाली है। इस बैठक में 150 से ज्यादा सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा होगी। बैठक की अध्यक्षता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। इस बैठक में उत्तर प्रदेश की 16, बिहार की 40, मध्य प्रदेश, बंगाल, राजस्थान, गुजरात, महाराष्टï्र, कर्नाटक, दिल्ली की 2, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर की सभी सीटों के प्रत्याशियों के नामों की घोषणा हो सकती है।
सूत्रों के अनुसार, रविवार को होने वाले केंद्रीय चुनाव समिति की दूसरी बैठक में भी गाजियाबाद, मेरठ समेत उत्तर प्रदेश की उन सात सीटों पर नाम नहीं आ सकते हैं, जिनमें प्रत्याशी चयन की आखिरी मुहर प्रधानमंत्री की ओर से लगनी है। प्रदेश की गाजियाबाद, मेरठ, सहारनपुर, सुल्तानपुर, पीलीभीत, प्रयागराज और कैसरगंज सीट पर प्रत्याशियों के नामों की घोषणा प्रधानमंत्री की अंतिम मुहर के बाद होनी है। भाजपा सूत्रों का कहना है कि पिछले सप्ताह प्रधानमंत्री पूरे सात दिनों तक उदघाटन और चुनाव कार्यक्रमों को लेकर दिल्ली से बाहर थे, जिस कारण इन सीटों पर फैसला नहीं हो पाया। इस सप्ताह भी प्रधानमंत्री के चुनावी दौरे पर व्यस्त रहने के कारण शायद ही इन सीटों पर अंतिम मुहर लग सके। अगर चुनाव कार्यक्रमों की घोषणा अगले सप्ताह की जाती है तो संभव है कि नामांकन के एक दिन पहले इन सात सीटों पर प्रत्याशियों के नामों की घोषणा की जाए। गाजियाबाद और मेरठ को लेकर तस्वीर साफ नहीं हो पाई है। मेरठ से राजेंद्र अग्रवाल लगातार तीन बार सांसद रहे। वे लोकसभा में अध्यक्ष की अनुपस्थिति में कार्यवाही का संचालन भी करते रहे। पहले भाजपा ने यहां से प्रत्याशी बदलने का मन बना लिया था लेकिन लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला को भी टिकट मिल जाने के बाद अब इस बात की संभावना है कि राजेंद्र अग्रवाल को भी टिकट दिया जाएगा। अगर मेरठ में राजेंद्र अग्रवाल को टिकट मिलता है तो फिर गाजियाबाद में भी जनरल वी के सिंह का टिकट पक्का हो जाएगा। दरअसल, मेरठ के टिकट पर गाजियाबाद का नाम फंसा है। मेरठ में अगर राजेंद्र अग्रवाल का टिकट कटता है और वहां उनके स्थान पर किसी वैश्य को टिकट मिलता है तो फिर गाजियाबाद में ठाकुर प्रत्याशी उतारा जाएगा। अगर मेरठ में ठाकुर प्रत्याशी उतारा जाता है तो फिर गाजियाबाद में किसी वैश्य को टिकट दिया जाएगा।