नगर संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। जिले को पूरी तरह से प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए आरएमआई इंडिया फाउंडेशन एनजीओ व नगर निगम द्वारा रेडिसन ब्लू होटल में ‘सिटी ईवी एक्सिलेटर’ कार्यशाला का आयोजन किया गया। जहां प्रशासनिक अधिकारी, एनजीओ, जिले के उद्यमी और स्वयंसेवी संगठनों के प्रतिनिधियों ने शहर को प्रदूषण मुक्त बनाने को लेकर मंथन किया।
कार्यशाला का विधिवत शुभारंभ नगर विकास विभाग के प्रमुख सचिव अमृत अभिजात, एडिशनल सीईओ इनवेस्ट यूपी आईएएस प्रथमेश कुमार, महापौर सुनीता दयाल,डीएम इन्द्र विक्रम सिंह, जीडीए वीसी अतुल वत्स, नगरायुक्त विक्रमादित्य सिंह मलिक, सीडीओ अभिनव गोपाल दीप प्रज्जवलित कर किया। आरएमआई इंडिया प्रोग्राम प्रिंसीपल समहिता शिलडर ने कार्यशाला की रूपरेखा पर प्रकाश डाला व सभी अतिथियों का स्वागत किया।
इसके उपरांत पैनल डिस्क्शन में उत्तर प्रदेश में इलेक्टिीफाइंग, बेस्ट प्रैक्टिस और चैलेंज को लेकर चर्चा की गई। आईएमआई इंडिया प्रोग्राम की मैनेजर डिम्पी सुनेजा ने कार्यशाला का मुख्य एजेंडा रखते हुए ईवी एक्सीलेटर प्रोग्राम को अप्रोच करने की अपील की। नगरायुक्त विक्रमादित्य सिंह मलिक ने बताया कि लखनऊ के बाद गाजियाबाद दूसरा शहर हैं जहां इलेक्ट्रिक व्हीकल के लिए कवायद की जा रही है। साथ ही प्रदेश का ऐसा पहला शहर भी हैं जहां मोटिवेशनल वर्कशॉप का आयोजन किया जा रहा है। भविष्य में भी लोगों को इलेक्ट्रिकल व्हीकल के प्रयोग के लिए अप्रोच करने को लेकर कार्यशाला की जाएंगी। साथ ही इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग स्टेशन के लिए २५ स्थानों पर चयन किया गया है जहां ११० चार्जिंग स्टेशन लगाए जाएंगे। डीएम इन्द्र विक्रम सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में ईवी पॉलिसी बन गई है जिसमें हम सभी को मिलकर आगे लाना है। महापौर सुनीता दयाल ने शहर को प्रदूषण मुक्त बनाने व ईवी को बढावा देने के लिए प्रयास की सराहना की। इस कार्यशाला में ट्रांसपोर्ट, पेट्रोल पम्प संगठन, आरडब्ल्यूए, ईवी मैन्युफैक्चर कपंनिया, ईवी यूजर्स, इलेक्ट्रिक चार्जिंग ऑपरेटर, वाहनों के डीलर्स, उद्यमी आदि मौजूद रहे।