गाजियाबाद (युग करवट)। एमएसपी जैसी कई मांगों को लेकर पंजाव, हरियाणा व यूपी समेत कई राज्यों की किसान यूनियन के द्वारा सेंट्रल गर्वमेंट को दी गई दिल्ली कूच की चेतावनी के बाद कमिश्नरेट पुलिस गाजियाबाद भी हाई अलर्ट मोड़ पर आ गई। उसके बाद पुलिस प्रशासन ने किसी भी अप्रिय घटना से निपटने और कानून व्यवस्था को सुदृढ़ रखने के लिये चॉक चौबंद सुरक्षा प्रबंध किये हैं। इस कवायद के तहत पुलिस कमिश्नरेट गाजियाबाद प्रशासन ने जहां दिल्ली से सटे जनपद के सभी बॉर्डर को छावनी के रूप में तब्दील कर दिये वहीं इस सुरक्षा के कमान सीपी अजय कुमार मिश्रा ने दोनों एडिशनल सीपी कल्पना सक्सैना एवं दिनेश कुमार पी को सौंप दी। इस सुरक्षा व्यवस्था को पूरी तरह से अभेद्य बनाने के लिये जहां २ कंपनी पीएसी, २२ क्यूआरटीज, आधा दर्जन से अधिक एसीपी और रिजर्व फोर्स के सहित हजारों पुलिसकर्मियों की डï्यूटी बॉर्डरर्स पर लगाई है।
शेष समाचार पृष्ठ चार पर …वहीं गाजियाबाद व दिल्ली से सटी सभी सीमाओं पर ड्रोन से भी निगरानी करवाई जा रही है। इसके अलावा आला अफसरों की मौजूदगी में निरीक्षक, उपनिरीक्षक, मुख्य आरक्षी व आरक्षी दिल्ली की और आने वाले वाहनों एवं उसमें सवार व्यक्तियों की चेकिंग व तलाशी भी ले रहे हैं। इसके अलावा एडीसीपी ट्रैफिक विरेंद्र कुमार व एसीपी ट्रैफिक रितेश त्रिपाठी कई टीआई व टीएसआई और ट्रैफिक पुलिसकर्मियों के साथ मिलकर यातायात व्यवस्था को बाधारहित एवं सुचारू बनाने की कवायद कर रहे हैं। वहीं दूसरी और सीपी अजय कुमार मिश्रा के निर्देशन में तीनों जोन के डीसीपी यानि कुंवर ज्ञान्नजय सिंह, विवेकचंद्र यादव व निमिष दशरथ पाटिल के अलावा समस्त सर्किलों के एसीपी व एसएचओ भी अपने-अपने क्षेत्रों में हर गतिविधि पर पैनी नजर बनाये हुए थे। समाचार लिखे जाने तक यूं तो सभी बार्डरर्स पर शांतिपूर्ण स्थिति बनी हुई थी वहीं दोनों सूबों की पुलिस के द्वारा की जाने वाली सघन चेकिंग की वजह से जाम की स्थिति बनी हुई थी। जाम की स्थिति से निपटने के लिये ट्रैफिक पुलिस के अधिकारी व जवान ट्रैफिक को अन्य रूटों पर डायवर्ट करके जाम की विकरालता को कम करने की कवायद कर रहे थे।