अंतिम संस्कार में पहुंचे गृहमंत्री अमित शाह समेत कई बड़े नेता
वीके सिंह को देखते ही फफक कर रो पड़े राजवीर सिंह राजू
युग करवट संवाददाता
अलीगढ़। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह के पार्थिव शरीर का सोमवार को अंतिम संस्कार कर दिया गया। सोमवार को उनके पैत्रिक गांव आज अतरौली के नरौरा घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। अंतिम संस्कार में गृहमंत्री अमित शाह, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नडडा, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ, उत्तराखंड के सीएम पुष्कर धामी और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित कई कैबिनेट मंत्रि शामिल हुए। अंतिम यात्रा में लोगों का हुजूम उमड़ा।
इस बीच अतरौली पहुंचे गृह मंत्री अमित शाह ने पत्रकारों से कहा कि जिस दिन राम मंदिर का शिलान्यास हुआ था, उसी दिन मेरी बाबूजी (कल्याण सिंह) से बात हुई थी। उन्होंने कहा था कि मेरे जीवन का लक्ष्य पूरा हो गया। बाबू जी का पूरा जीवन यूपी के विकास व गरीबों के लिए समर्पित रहा। देश को बेहतर गति एवं दिशा दी। प्रदेश का विकास किया। उन्होंने अपने कार्यों की गहरी छाप छोड़ी है। बाबूजी के जाने से भाजपा में जो रिक्तता आई है, उसकी लंबे समय तक भरपाई नहीं हो सकती। बाबूजी लंबे समय से सक्रिय राजनीति में नहीं थे। लेकिन उनको उनके उम्र के साथ-साथ युवाओं का भी साथ मिला। वह हमेशा भाजपा के प्रेरणास्त्रोत रहेंगे। पूर्व मुख्यमंत्री को श्रद्धांजलि देने पहुंचे गृह मंत्री अमित शाह और वीके सिंहन् को को देख कल्याण सिंह के बेटे फफट कर रो पड़े। इस दौरान शाह ने उन्हें गले से लगाकर सांत्वना दी। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने अतरौली के एनेक्सी भवन में पहुंचकर पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के पार्थिव शरीर पर पुष्प चढ़ाकर श्रद्धांजलि दी। कल्याण सिंह की शव यात्रा स्टेडियम से होती हुई अतरौली के एनेक्सी भवन पहुंची, यहां जनता दर्शन के लिए दो घंटे तक पार्थिव शरीर को रखा गया। पूर्व मुख्यमंत्री के अंतिम दर्शन करने को हजारों लोगों का सैलाब उमड़ा। वीवीआईपी को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था के कड़े इंतजाम किए गए हैं। अलीगढ़ में सूर्य प्रताप शाही, संतोष गंगवार, रामशंकर कठेरिया सहित कई विधायक और सांसद सुबह सवेरे स्टेडियम में कल्याण सिंह का अंतिम दर्शन करने के लिए पहुंचे। पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के अंतिम संस्कार में एक लाख से अधिक लोग पहुंचेे। कल्याण सिंह का अंतिम संस्कार वैदिक रीति रिवाज से किया गया। आचार्यों में रणधीर शास्त्री, दीपक शास्त्री, आचार्य अविनाश शास्त्री, महेंद्र देव हिमांशु, मवासी सिंह शास्त्री, नरपत सिंह, सुभाष कुमार आर्य, मनोज कुमार शास्त्री, जनेश कुमार, सत्यप्रकाश शामिल थे।
कल्याण सिंह के नाम पर होगी राम जन्मभूमि की सड़क
उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने सोमवार को घोषणा की कि अयोध्या में राम जन्मभूमि की ओर जाने वाली एक सड़क का नाम पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के नाम पर रखा जाएगा। इसके अलावा लखनऊ, प्रयागराज, बुलंदशहर और अलीगढ़ में भी एक एक सड़क का नाम उनके नाम पर रखा जाएगा। वीवीआईपी के लिए नरौरा परमाणु केंद्र में चार हेलीपैड बनाए गए हैं। पूर्व सीएम का अंतिम संस्कार नरौरा में होने की जानकारी मिलते ही शनिवार रात मेरठ जोन एडीजी राजीव सभरवाल, आईजी प्रवीण कुमार नरौरा पहुंचे। एसएसपी संतोष कुमार सिंह के साथ अंतिम संस्कार स्थल, रूट सहित सुरक्षा और अन्य व्यवस्थाओं का जायजा लिया।