युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। कोरोना संक्रमण के दौरान २४ घंटे चलने वाले कोविड कंट्रोल रूम में अब कर्मचारियों की संख्या को घटाया जा रहा है। वर्तमान में अब एक ही शिफ्ट में ड्यूटी लगाई जा रही है। बाकी कर्मचारियों को बीएलओ ड्यूटी के तहत रिलीव कर दिया गया है। जिले में मार्च से लेकर जुलाई तक कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने कहर बरपाया था। हालात इस कदर खराब थे कि मरीजों को अस्पताल में जगह नहीं मिल रही थी तो वहीं ऑक्सीजन से लेकर जरूरी दवाओं तक के लिए मारामारी थी। यहां तक कि अंतिम संस्कार के लिए भी लोगों को घंटों की वेटिंग मिल रही थी। इन स्थितियों की पल-पल निगरानी रखने और लोगों की हेल्प के लिए विकास भवन में कोविड कंट्रोल रूम बनाया गया जिसे २४ घंटे संचालित किया गया था। शिफ्टवार, डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ से लेकर अन्य विभागों के कर्मचारियों को यहां तैनात किया गया था। एक शिफ्ट में करीब २५ से ३० कर्मचारी कंट्रोल रूम में तैनात रहते थे। लेकिन सितंबर माह के बाद से कोविड संक्रमण का असर कम होना शुरू हो गया। वर्तमान में जिले में तीन एक्टिव मरीज हैं जिनका इलाज भी होम आइसोलेशन में चल रहा है।