नई दिल्ली। राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी) के चीफ और पूर्व केंद्रीय मंत्री अजित सिंह का कोरोना से निधन हो गया है। 82 साल के अजित सिंह कोरोना संक्रमित थे। वे काफी समय से गुडग़ांव के मेदांता अस्पताल में भर्ती थी। मगंलवार रात अचानक उनकी तबीयत बिगडऩे लगी। अथक प्रयास के बाद भी डॉक्टर उन्हें बचा नहीं पाए। जहां आज सुबह छह बजे उनका निधन हो गया। अजित सिंह 20 अप्रैल को कोरोना से संक्रमित पाए गए थे। आज सुबह छह बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। उनके बेटे जयंत चौधरी ने कहा, ‘दुख और महामारी के काल में हमारी प्रार्थना है कि अपना पूरा ध्यान रखें, संभव हो तो घर में रहें और सावधानी जरूर बरतें। इससे देश में सेवा कर रहे डॉक्टर व स्वास्थ्य कर्मचारियों को भी मदद मिलेगी। ये चौधरी साहब को आपकी सच्चा श्रदांजलि होगी।Ó अजित सिंह के निधन पर सभी दलों ने नेताओं ने शोक व्यक्त किया। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर अजित सिंह के निधन पर दुख जताया है। मोदी ने कहा, ‘पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी अजित सिंह जी के निधन से अत्यंत दुख हुआ है। वे हमेशा किसानों के हित में समर्पित रहे। उन्होंने केंद्र में कई विभागों की जिम्मेदारियों का कुशलतापूर्वक निर्वहन किया। शोक की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिजनों और प्रशंसकों के साथ हैं। ओम शांति!Ó रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने भी अजित सिंह के निधन पर गहरा शोक जताया है।
पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के बेटे अजित सिंह ने साल 1986 से अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत की थी। 1986 में वह राज्यसभा भेजे गए थे। अजित सिंह 6 बार लोकसभा और एक बार राज्यसभा सांसद रहे।