युग करवट संवाददाता
नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस हर दिन नया रिकॉर्ड बना रहा है। पिछले २४ घंटे में ४ लाख से ऊपर कोरोना मरीज सामने आए है। और मरने वालों की संख्या अब तक सबसे ज्यादा ४१८७ तक पहुंच गई है।
हालांकि, कोरोना कहर के बीच में एक राहत की भी खबर है कि इस महीने कोरोना अपने पीक पर तो होगा, मगर जून में बड़ी गिरावट देखने को मिल सकती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सलाह देने वाली एक्सपर्ट्स की एक टीम ने सुझाव दिया है कि आने वाले कुछ दिनों में भारत में कोरोना वायरस अपने पीक पर होगा। मगर पिछले महीने इसी टीम का अनुमान गलत साबित हुआ था और कोरोना का कहर और बढ़ गया। हालांकि, इस टीम का हाल का अनुमान उन वैज्ञानिकों के सुझाव के करीब है, जिनका मानना है कि मई के मध्य तक भारत में कोरोना अपने पीक पर होगा।
विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना के आंकड़ों को कम करके बताया जा रहा है क्योंकि देश के श्मशान स्थलों पर शव के अंतिम संस्कार के लिए लंबी लाइनें लग रही हैं और अस्पतालों में मरीजों की भीड़ लगी हुई है। इन्हीं वजहों से कोरोना के सटीक पीक का अनुमान लगाना मुश्किल हो रहा है। हालांकि, तब भी ये अनुमान काफी अहम माने जा रहे हैं। हैदराबाद में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान में प्रोफेसर माथुकुमल्ली विद्यासागर का अनुमान है कि आने वाले कुछ दिनों में कोरोना अपने पीक पर होगा। आईआईटी कानपुर के प्रोफेसर मनिंद्र अग्रवाल द्वारा तैयार मॉडल का हवाला देकर उन्होंने कहा कि मौजूदा अनुमान के मुताबिक, जून के अंत तक हर दिन २० हजार केस देखने को मिल सकते हैं। हालांकि, जरूरत के हिसाब से हम इसे संशोधित करेंगे। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, बीते तीन दिनों से लगातार देश में रोजाना कोरोना के चार लाख से अधिक मामले आ रहे हैं और रोजाना होने वाली मौत की संख्या ने भी चार हजार का आंकड़ा पार कर लिया है। फिलहाल, बड़ी संख्या में वैज्ञानिकों का मानना है कि आने वाले कुछ दिन भारत के लिए काफी कठिन होने वाले हैं। बेंगलुरु में स्थिति आईआईएस की एक टीम ने मैथेमेटिकल मॉल के आधार पर अनुमान जताया है कि देश में अगर यही ट्रेंड बना रहा तो ११ जून तक ४०४,००० मौतें हो सकती हैं। बता दें कि भारत में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा दो लाख पार कर चुका है। वैज्ञानिकों का कहना है कि वैक्सीन लगाने के बाद से ही कोरोना को कंट्रोल किया जा सकता है। इसके लिए वैक्सीन लगवाना जरूरी है।