युग करवट संवाददाता
नोएडा। कोविड-19 महामारी के समय समाज के प्रति अहम भूमिका निभाने वाले लोगों को बीती रात को पब्लिक पुलिस सामाजिक संस्था ने सेक्टर 15-ए क्लब में आयोजित एक भव्य कार्यक्रम में सम्मानित किया।
इसमें पुलिस के आला अधिकारी, स्वास्थ्य कर्मी, मीडिया कर्मी और सामाजिक संस्थाओं से जुड़े लोगों को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर बोलते हुए भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश जस्टिस के जी बालाकृष्णन ने कहा कि पुलिस पब्लिक संस्था का कार्य समाज के लोगों और पुलिस के प्रति आपसी विश्वास और सौहार्द कायम करना तथा लोगों को न्याय दिलाना है।
उन्होंने बताया कि यह संस्था देश के दर्जनभर से ज्यादा प्रांतों में मौजूदा समय में काम कर रही है, तथा इसका विस्तार जारी है। इस अवसर पर बोलते हुए गौतम बुद्ध नगर के पुलिस आयुक्त आलोक सिंह ने कहा कि पुलिस कमिश्नरेट बनने के बाद गौतम बुद्ध नगर में निवेश बढ़ा है। यहां पर कानून व्यवस्था का राज कायम हुआ है। उन्होंने कहा कि पहले लोग नोएडा आने से डरते थे। बड़े-बड़े उद्योगपति नोएडा में निवेश करने से घबराते थे। उन्होंने बताया कि पुलिस कमिश्नरेट बनने के बाद यहां पर देश-विदेश के लोगों ने निवेश करना शुरू किया है, तथा सुरक्षा का माहौल पैदा हुआ है। उन्होंने कहा कि महिला अपराध पर सख्ती से अंकुश लगाया गया है, जिसकी वजह से यहां पर महिलाएं अपने आप को सुरक्षित महसूस कर रही है।
संस्था के महासचिव पूर्व आईएएस देवदत्त शर्मा ने इस अवसर पर बोलते हुए कहा कि कोरोना कॉल में डॉक्टर, पत्रकार, पुलिस के अधिकारियों और कर्मचारियों व बैक कर्मियो ने अपनी जान की परवाह किए बिना समाज के हर वर्ग की सेवा की। उन्होंने कहा कि मीडिया और पुलिस के लोगों ने लीक से हटकर कार्य किया, जिससे मानवता का सिर गर्व से ऊंचा हुआ। उन्होंने गौतमबुद्धनगर के सांसद डॉ महेश शर्मा, कैलाश अस्पताल के सीएमडी श्रीमती उमा शर्मा, शारदा मेडिकल कॉलेज और विश्वविद्यालय के निदेशक वाई के गुप्ता, प्रकाश अस्पताल के निदेशक डॉक्टर बीएस चौहान की तारीफ करते हुए कहा कि कोरोना काल में इन लोगों ने बिमार व मजबूर लोगों की हरतरह से भरपूर सहायता की।
इस अवसर पर बोलते हुए युगकरवट के प्रधान संपादक सलामत मियां ने कहा कि कोरोना कॉल में हमने अपनों को खोया है। यह एक ऐसा भयावह समय था, जब हर व्यक्ति अपने आपको विवश महसूस कर रहा था। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के समय हर व्यक्ति अपने आप को विवश महसूस कर रहा था, चाहे वह धनवान हो, या गरीब। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण ने हमें सीख दी है कि आपसी भाईचारा बनाए रखें, तथा एक दूसरे की सेवा करें। अवसर पर कोरोना काल में समाज के प्रति अभूतपूर्व योगदान देने वाले लोगों को सम्मानित किया गया। भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश के जी बालाकृष्णन ने गौतम बुद्ध नगर के पुलिस आयुक्त आलोक सिंह, संयुक्त पुलिस आयुक्त लव कुमार, युगकरवट समाचार पत्र के प्रधान संपादक सलामत मियां, पुलिस उपायुक्त राजेश एस, पुलिस उपायुक्त गणेश पी शाहा, अपर पुलिस उपायुक्त रणविजय सिंह, सहायक पुलिस आयुक्त सुश्री अंकिता शर्मा, सहायक पुलिस आयुक्त रजनीश वर्मा, थाना एक्सप्रेसवे के थानाध्यक्ष सुधीर कुमार सिंह, थाना फेस-3 के प्रभारी निरीक्षक विवेक त्रिवेदी, थाना फेस -2 के थानाध्यक्ष सुजीत डॉ जी सी वैष्णव, डॉक्टर अतुल सिंह, डॉक्टर शैलेंद्र गोयल, डॉ डीके सिंह, डॉ श्रीमती उमा भारद्वाज, रामाज्ञा स्कूल के प्रबंध निदेशक संजय गुप्ता, दिल्ली पुलिस के पूर्व आयुक्त एसएन श्रीवास्तव, कैप्सी के महेश शर्मा, वरिष्ठ अधिवक्ता के सी कौशिक (सुप्रीम कोर्ट), वरिष्ठ पत्रकार अनिल महेश्वरी ,पूर्व आईएएस तनवीर जफर अहमद सहित कोविड-19 संक्रमण के समय समाज के लोगों की सेवा में अभूतपूर्व योगदान देने वाले कई लोगों को सम्मानित किया।
इस अवसर पर पूर्व कानून सचिव वीके मल्होत्रा, पूर्व जस्टिस सतीश चंद्रा, पूर्व आईएएस धर्मेंद्र देव मिश्रा, उत्तर प्रदेश के पूर्व डीजीपी जीएल शर्मा, विवेक शर्मा, अरुण जैन, सुमित मोदी, आरके महेश्वरी, अनिल तिवारी, राहुल, गिरीश बत्रा, बीएन गुप्ता, राकेश सिंह, प्रवीण बंसल, विमल बाकलू, मेजर सुशील गोयल, जनरल एसपी सिन्हा, मनीष शर्मा , विनोद गुप्ता, सुशील गुप्ता, सुनील गुप्ता, योगेश गुप्ता, सौरव गुप्ता, करण गर्ग, अजय शर्मा, सहित देश की कई गणमान्य लोग मौजूद थे।