नगर संवाददाता
गाजियाबाद। (युग करवट) आरडब्ल्यूए फेडरेशन एवं फ्लैट ओनर फेडरेशन गाजियाबाद और कोरवा यूपी की संयुक्त बैठक आयोजित की गई। इस बैठक में कोरवा के राष्ट्रीय संरक्षक व पूर्व वरिष्ठ आईएएस डॉ. अजय शंकर पाण्डेय ने अपने प्रशासनिक अनुभव साझा किए। फेडरेशन के चेयरमैन कर्नल टीपी त्यागी ने कहा कि जनप्रतिनिधिों को कुछ न कुछ सुविधाएं अथवा वेतन मिलता है जबकि आरडब्ल्यूए के प्रतिनिधियों को कोई सुविधा नहीं मिलती। वहीं, वरिष्ठ आईएएस डॉ. अजय शंकर पाण्डेय ने कहा कि आरडब्ल्यूए और सभासद एक-दूसरे के पूरक हैं, विरोधी नहीं। सरकारी योजनाओं की सफलता के लिए यह आवश्यक है कि उनमें उनकी राय अवश्य ली जाए, जिनके लिए वह बनाई जाती हैं।
उन्होंने कहा कि प्रशासन बिना आरडब्ल्यूए के सहयोग के विकास को गति नहीं दे सकता है, क्योंकि नेतृत्व तो आरडब्ल्यूए का ही होगा। उन्होंने फेडरेशन से आह्वान किया पूर्वी उत्तर प्रदेश के जिलों में भी जाकर आरडब्ल्यूए की संस्कृति को विकसित करें। कोरवा यूपी के अध्यक्ष पवन कौशिक ने कहा कि गाजियाबाद आरडब्लूए संस्कृति २००५ से शुरू हुई थी, आज स्थिति यह है कि देशभर में होने वाली आरडब्लूए की बैठकों का मुख्य संयोजक गाजियाबाद ही है। डॉ. आरके आर्या ने बताया कि वरिष्ठ आईएएस को कोरवा का राष्टï्रीय सरंक्षक नामित किया गया है जिससे फेडरेशन को प्रशासनिक कार्यो का अनुभव मिल सके। बैठक में अनुज त्यागी, प्रेमशंकर सिंह, तरूण चौहान, राजकुमार त्यागी, विनोज जिंदल, धर्मेन्द्र खण्डेवाल, राजीव अग्रवाल, अंशु त्यागी, संध्या त्यागी, ऋषि बंसल, गौरव सेनानी, भगवत गुप्ता आदि मौजूद रहे।