युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। पिछले छह महीने से भी अधिक समय से दिल्ली के बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों ने आज पूर्व घोषणा के तहत जगह-जगह प्रदर्शन किया। गाजीपुर बॉर्डर से लेकर जिला मुख्यालय पर भी किसानों ने कृषि कानून की प्रतियां जलाकर विरोध प्रदर्शन किया और अपनी मांग दोहराते हुए कहा कि किसानों को कमजोर समझने की भूल सरकार ना करे। वह अपनी मांग पूरी होने तक पीछे नहीं हटेंगे।
बता दें कि शनिवार को किसानों ने आंदोलन स्थल के अलावा जिला मुख्यालयों व भाजपा नेताओं के घरों के सामने प्रदर्शन करने का ऐलान किया था। इसके तहत भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले किसानों ने जिला मुख्यालय में प्रदर्शन किया। ट्रेक्टर-ट्रॉलियों में सवार होकर बड़ी संख्या में किसान जिला मुख्यालय पहुंचे और मुख्य गेट पर कृषि कानून की प्रतियां जलाकर विरोध प्रदर्शन किया। भाकियू के जिलाध्यक्ष बिजेंद्र चौधरी ने कहा कि देश का किसान दिल्ली के बॉर्डर पर पिछले छह महीने से अधिक समय से बैठा हुआ है। लेकिन यह विरोध प्रदर्शन तब तक जारी रहेगा, जब तक यह तीनों काले कानून वापस नहीं लिए जाएंगे। जिला मुख्यालय के अलावा गाजीपुर बॉर्डर पर भी किसानों ने कृषि कानून की प्रतियां जलाकर विरोध प्रदर्शन किया और कहा कि मांगें पूरी होने तक घर वापसी नहीं की जाएगी। विरोध करने वालों में चौधरी राष्टï्रीय सचिव भाकियू ओमपाल सिंह, सतेंद्र त्यागी, वेदपाल मुखिया, विनोद मनौटा, जयकुमार मलिक व चंद्रपाल सिंह आदि मौजूद रहे। वहीं किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए जिला मुख्यालय में भारी पुलिस फोर्स तैनात की गई।