युग करवट ब्यूरो
नई दिल्ली। चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत और सेना के अन्य 11 अधिकारी व सैनिकों के पार्थिव शरीर को नई दिल्ली लाने के लिए विशेष विमान चेन्नई पहुंच गई है। कुन्नूर से शवों को आज सुबह नीलगिरी जिला स्थित मद्रास रेजिमेंटल सेंटर लाया गया, जहां तमिलनाडू की राज्यपाल डॉ. तमिल साई सुंदरराजन और मुख्यमंत्री स्टालिन ने शवों पर पुष्पचक्र चढ़ाकर श्रद्घांजलि अर्पित की।
इसके बाद शवों को सुलुर लाया गया, जहां से चेन्नई एअरपोर्ट ले जाया जाएगा। सुलुर में सैंकड़ों की संख्या में लोगों ने शवों के अंतिम दर्शन किए। आज शाम शवों को दिल्ली लाया जाएगा। कल दिल्ली कैंटोनमेंट इलाके में पूरे राजकीय सम्मान के साथ शवों का अंतिम संस्कार किया गया।
इस बीच, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने राष्टï्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात कर कल नीलगिरी में हुए हादसे की जानकारी दी। इस हादसे में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत 13 सेना के अधिकारी, सैनिक और पायलट की मौत हो गई थी। यह दुर्घटना तब हुई जब सीडीएस अपनी पत्नी और स्टाफ के साथ नीलगिरी स्थित मिलीटरी स्टाफ कॉलेेज में सैनिकों को संबोधित करने जा रहे थे।
वायुसेना के एमआई-17 वी5 हेलीकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने जाने से पूरा देश स्तब्ध रह गया। हर कोई सीडीएस व अन्य अधिकारियों के सकुशल होने की प्रार्थना करने लगे। इसी बीच शाम करीब साढ़े छह बजे भारतीय वायु सेना ने ट्वीट के जरिए सीडीएस की मौत होने जाने की जानकारी दी। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवने में जनरल बिपिन रावत के घर जाकर उनकी बेटी से मुलाकात की। जनरल रावत की एक बेटी दिल्ली में और एक मुंबई में रहती है। मूलरूप से पौड़ी गढ़वाल के निवासी जनरल बिपिन रावत के निधन पर उत्तराखंड सरकार ने तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया है। इस दौरान राज्य में राष्टï्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा। सरकारी दफ्तर व स्कूल-कॉलेज बंद रहेंगे।
राजनाथ सिंह ने सदन को दी जानकारी
इस बीच रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आज राज्यसभा में कल हुए हादसे की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि सीडीएस बिपिन रावत एक रूटिन कार्यक्रम में वेलिंग्टन सैनिक स्कूल जा रहे थे। उन्होंने सुलुर से उड़ान भरी लेकिन 12 बजकर आठ मिनट पर एअर ट्रैफिक कंट्रोलर से हेलीकॉप्टर का संपर्क टूट गया। इसके कुछ क्षणों बाद ग्रामीणों ने हेलीकॉप्टर में आग लगते हुए देखा। आग लगने के बाद हेलीकाप्टर नीलगिरी के जंगल में गिरा, जिसमें सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका और 11 अन्य लोगों का दुखद निधन हो गया। राजनाथ सिंह के बयान से पहले राज्यसभा में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी व 11 अन्य लोगों के निधन पर शोक प्रस्ताव पारित किया गया। सदन के उपाध्यक्ष ने विपक्षी दलों के चर्चा की मांग को खारिज कर दिया।