युग करवट ब्यूरो
नई दिल्ली। बिहार में इन दिनों भाजपा और जनता दल यू में जुबानी जंग चल रही है। इसमें दोनों दलों के नेता भाषा की मर्यादा भी भूल चुके हैं। नेताओं पर तीखे हमलों के साथ ही पार्टी के नामों को लेकर भी वार-पलटवार चल रहे हैं। जदयू संसदीय दल के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाह ने भाजपा का मतलब ‘भ्रष्टï जन पार्टी’ बताते हुए आरोप लगाया है। वहीं, भाजपा नेता अरविंद कुमार सिंह ने जेडीयू का मतलब ‘जालसाज, दगाबाज, उचक्का’ पार्टी बताया। कुशवाह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने नाम लेकर आरोप लगाया कि भाजपा में शामिल होने के बाद कई नेताओं के भ्रष्टाचार के मामले बंद हो गए। कुशवाह ने इस सिलसिले में महाराष्ट्र भाजपा के नेता व केंद्रीय मंत्री नारायण राणे का उदाहरण दिया। राणे कथित तौर पर महाराष्ट्र के आदर्श हाउसिंग सोसाइटी घोटाले में शामिल थे।
जदयू नेता कुशवाह ने इसके बाद असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा का नाम लिया। जिन पर भाजपा ने ही कथित तौर पर राज्य के पीडब्ल्यूडी घोटाले में शामिल होने का आरोप लगाया था। इसी तरह उन्होंने पश्चिम बंगाल के मुकुल रॉय का जिक्र किया। रॉय कथित रूप से सारदा चिटफंड घोटाले में शामिल थे। कुशवाह के आरोप पर तत्काल पलटवार करते हुए भाजपा नेता अरविंद कुमार सिंह ने जदयू को ‘राष्ट्रीय शकुनि और राजनीतिक गिरगिट’ करार दे दिया। गठबंधन टूटने के बाद से दोनों दल एक दूसरे पर तीखे हमले कर रहे हैं। पिछले माह नीतीश कुमार ने भाजपा व एनडीए छोडक़र राजद का दामन थाम लिया और महागठबंधन के साथ नई सरकार बना ली है। उन्होंने आरोप लगाया कि जदयू सियासी मंथराओं से भरी पार्टी है।