युग करवट संवादाता
गाजियाबाद। धारा-80 के तहत कृषि जमीन को गैर कृषि कार्य के लिए तब्दील करने की गुजारिश को लेकर कलेक्ट्रेट पहुंचे किसानों के एक दल के साथ प्रशासनिक अधिकारियों की तकरार हो गई। किसानों ने एक अधिकारी पर रिश्वत मांगने का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की। किसानों ने कार्रवाई की मांग को लेकर एक ज्ञापन एडीएम प्रशासन रितु सुहास को दिया।
किसानों ने चेतावनी दी है कि अगर प्रशासनिक अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई तो किसान संगठन कलेक्ट्रेट का घेराव करेंगे। जल्द ही किसानों का एक प्रतिनिधिमंडल मुख्यमंत्री से मुलाकात कर प्रशासनिक अधिकारी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराएंगे। इकला निवासी टीकम नागर ने बताया कि उन्होंने अपनी 500 गज आबादी, जिसमे 2 मंजिल मकान बना है, वहां स्कूल खोलना चाहते हैं। इसके लिए उन्होंने धारा-80 के तहत गैर कृषि जमीन में तब्दील करने का आवेदन किया था। उक्त काम के लिए एक अधिकारी ने उनसे 1 लाख रुपये की मांग की सुविधा शुल्क की मांग की। टीकम नागर ने बताया कि जब उन्होंने सुविधा शुल्क देने से इनकार कर दिया तो उक्त अधिकारी ने झूठे मुकदमे लगा कर जेल भेजने की बात की। इससे गुस्साए किसानों ने कलक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया। बाद में एडीएम प्रशासन रितु सुहास को एक ज्ञापन सौंपा। प्रशासनिक अधिकारियों से मुलाकात करने वालों में टीकम नागर, सतपाल चौधरी, डॉ बबली गुर्जर, सुशील प्रधान, बी सी बंसल, वन्दना चौधरी, पार्षद आनंद चौधरी, नितिन प्रधान, टेकराम नागर, एड विवेक शर्मा, बिजेंद्र शर्मा, सोनू प्रधान, बालेश्वर, विजय मुखिया, मोहित नागर आदि उपस्थित थे।