नोएडा (युग करवट)। अपनी विभिन्न मांगों को लेकर भारतीय किसान यूनियन (टिकैत) ने जेवर टोल प्लाजा पर विरोध प्रदर्शन किया। किसानों के विरोध प्रदर्शन के चलते काफी देर तक यातायात बाधित रहा।
भारतीय किसान यूनियन (टिकैत) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष महेंद्र सिंह चिरौली ने कहा कि भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत के ऊपर कर्नाटका में स्याही फेंकने के मामले के विरोध में जेवर टोल पर किसानों ने प्रदर्शन किया।
उन्होंने कहा कि राकेश टिकैत के ऊपर स्याही फेंकने वालों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। उन्होंने बताया कि जेवर क्षेत्र के किसानों की कई अन्य समस्याओं को लेकर भी जिला प्रशासन व पुलिस के साथ उनकी वार्ता हुई।
सूरजपुर मुख्यालय पर भाकियू ने किया प्रदर्शन
ग्रेटर नोएडा (युग करवट)। कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू में किसान नेता राकेश टिकैत के ऊपर स्याही फेंके जाने को लेकर भारतीय किसान यूनियन (अरा) में काफी रोष है। इस रोष के चलते आज सूरजपुर स्थित जिलाधिकारी कार्यालय में भाकियू के पदाधिकारियों ने प्रदर्शन कर पंचायत की।
इस दौरान भाकियू के पदाधिकारियों ने किसान नेता राकेश टिकैत की सुरक्षा बढ़ाए जाने की मांग को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को संबोधित एक ज्ञापन भी सौंपा। भाकियू (अरा) के जिलाध्यक्ष अनित कसाना ने बताया कि प्रेस वार्ता के दौरान धक्का-मुक्की के बाद इस घटना को अंजाम दिया गया। इसके बाद राकेश टिकैत के समर्थकों ने आरोपी को पकडक़र उसकी पिटाई भी की। इस घटना के बाद कार्यक्रम में जमकर एक दूसरे के ऊपर कुर्सियां फेंकी गयी। घटना के बाद तीन लोगों को भी हिरासत में ले लिया गया। भाकियू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मांग की है कि किसान नेता राकेश टिकैत को जेड प्लस सुरक्षा प्रदान की जाए।
वहीं, इस घटना की न्यायिक जांच भी की जाए। उन्होंने बताया कि भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत की सुरक्षा में यह एक बड़ी चूक हुई है। किसान नेता चंद्रशेखर के समर्थकों ने राकेश टिकैत पर स्याही फेंकी और किसान नेताओं के साथ मारपीट भी की। यह बेंगलुरू पुलिस की बड़ी चूक है। राकेश टिकैत ने हमेशा किसानों के लिए लड़ाई लड़ी है और आगे भी लड़ते रहेंगे। यह राकेश टिकैत ही नहीं बल्कि सभी किसानों का अपमान है।