युग करवट संवाददाता
नोएडा। भारत छोड़ो आंदोलन सक्रिय भूमिका निभाने लाले स्वतंत्रता संग्राम सेनानी तथा अपने पिता महाशय तेजपाल यादव जी की अष्टधातु से निर्मित जीवंत मूर्ति के अनावरण के समय पूर्व सांसद डीपी यादव ने एक बार फिर से यह साबित कर दिया कि उनकी उनके साथ समाज के अलावा हर वर्ग साथ खड़ा है। कभी उत्तर प्रदेश की राजनीति में अहम माने जाने वाले पूर्व सांसद डीपी यादव के जीवन में काफी लंबा संघर्ष रहा है। उनके साथ कई बार राजनीतिक गद्दारी भी हुई, लेकिन उन्होंने इससे उबर कर रण संभाला और विजय प्राप्त की। जिस तरह से इस कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, उत्तराखंड के सभी पार्टियों के नेता, संत, आर्य समाज से जुड़े हुए लोग, समाजसेवी और फिल्मी हस्तियां सहित अपार जनसमूह पहुंचा, उसने यह फिर से साबित कर दिया कि पूर्व मंत्री डीपी यादव के प्रति लोगों का प्यार कायम है।
यूं तो उनके जीवन में काफी उतार-चढ़ाव आए। अभी हाल ही में वह कई वर्ष तक जेल में रहने के बाद रिहा होकर बाहर आए हैं। उनके जीवन में एक लंबा संघर्ष रहा है। ब्लाक प्रमुख,विधानसभा, लोकसभा, राज्यसभा के चुनाव में अपने परचम लहराने के बाद डीपी यादव का सितारा काफी बुलंदियों पर था। उनके यहां आयोजित होने वाले शादी -विवाह व उत्सव में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई, पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर, सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव, लालू प्रसाद यादव, महान तांत्रिक चंद्रास्वामी, फिल्मी जगत की कई नामचीन हस्तियां, शामिल होती रही है। 90 के दशक मे दादरी के विधायक महेंद्र भाटी हत्याकांड में चल रही सुनवाई में देहरादून की सीबीआई कोर्ट ने उन्हें आजीवन कारावास की सजा सुना दी। इस मामले की जब उन्होंने नैनीताल हाई कोर्ट में अपील की तो कोर्ट ने पाया कि इसमें उनकी कोई भूमिका नहीं थी, तथा कोर्ट ने उन्हें बाइज्जत बरी कर दिया। करीब 6 साल जेल में रहने के बाद बड़े-बड़े धुरंधर टूट जाते हैं, लेकिन लौह पुरुष डीपी यादव ने हिम्मत नहीं हारी। 70 वर्ष से ज्यादा की उम्र में उन्होंने जेल से बाहर आते ही फिर से संघर्ष शुरू किया और कुछ ही दिनों में अपनी खोई हुई विरासत को वापस पा लिया। उत्तर प्रदेश में अभी हाल ही में संपन्न हुए जिला पंचायत चुनाव में जनपद बदायूं से उनके भतीजे की पत्नी जिला पंचायत अध्यक्ष बनीं तथा उनके चार भतीजे वहां से ब्लॉक प्रमुख बने।
शनिवार को उनके पिता महाशय तेजपाल जी के मूर्ति अनावरण के समय उन्नाव से सांसद साक्षी महाराज, गौतम बुद्ध नगर के सांसद व पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ महेश शर्मा, प्रसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव, उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री अवधपाल सिंह यादव, दिल्ली के पूर्व सांसद महाबल मिश्रा, दिल्ली भाजपा के उपाध्यक्ष सुनील यादव, प्रख्यात संत स्वामी आर्यवेश, स्वामी प्रणवानंद, जाने-माने अभिनेता रंजीत, अयोध्या के हनुमानगढ़ी के महंत, राष्ट्रीय स्तर के रागिनी गायक ब्रह्मपाल नागर, सहित दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश के कई बड़े नेता, शामिल हुए। इस अवसर पर अपार जनसमूह उमड़ा हुआ था, जिसमें पूर्व विधायक, वर्तमान विधायक, जिला पंचायत सदस्य तथा कई जनपदों के ब्लाक प्रमुख और जिला पंचायत अध्यक्ष शामिल रहे। इस कार्यक्रम में सभी ने एक कंठ से डीपी यादव की सराहना की तथा उनके द्वारा समाज में शिक्षा, रोजगार और लोगों की गई सेवा का बयान किया। लोगों ने कहा कि जिस तरह से डीपी यादव ने मुश्किल समय में हिम्मत से काम लेते हुए अपने राजनीतिक और व्यापारिक जीवन को संभाला है, वह लोगों के लिए एक प्रेरणा स्रोत है। शनिवार को आयोजित कार्यक्रम में जिस तरह से हर पार्टी के, हर बिरादरी के, और हर समाज के लोगों ने बढ़-चढक़र हिस्सा लिया। उससे डीपी यादव की लोकप्रियता का सहज अंदाजा लगाया जा सकता है।