युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। 15 वर्ष के लिए दिए गए विज्ञापन के ठेके को लेकर कानूनी दांव पेंच शुरू होने की संभावना है। ऐसे में निगम प्रशासन की कोशिश है कि इस प्रस्ताव को बोर्ड की बैठक में विधिवत पास कराया जाए। माना जा रहा है कि इसके अलावा कई अन्य प्रस्तावों को पास कराने के लिए जल्दी ही नगर निगम बोर्ड या कार्यकारिणी की बैठक हो सकती है। इसके लिए एक खास रणनीति पर कार्य शुरू हो गया है।
हाल ही में निगम बोर्ड की बैठक आयोजित की गई थी। लगातार दो महीने बैठक हुई। 13 जुलाई और 16 अगस्त को निगम बोर्ड की बैठक का आयोजन किया गया। 16 अगस्त की बैठक में 15 वर्ष के लिए छोड़े गए विज्ञापन के ठेके के प्रस्ताव पर भी चर्चा हुई। हालांकि कुछ पार्षदों का आरोप है कि इसी बोर्ड बैठक में 15 वर्ष के लिए विज्ञापन का ठेका पास दिखाने का भी दावा किया है। विधिवत तौर पर यह प्रस्ताव बैठक से पहले जारी किए गए अजैंडे में शामिल नहीं था।
अगर बोर्ड की बैठक में प्रस्ताव पास दिखाया गया तो यह मामला काफी गंभीर है। इस प्रकरण को लेकर हाईकोर्ट में रिट भी फाइल की गई है। हालांकि इस पर अभी फैसला होना बाकि है। इस बीच नगर निगम बोर्ड की बैठक इसी महीने होने की संभावना है। आशंका है कि बोर्ड की बैठक में 15 वर्ष के लिए दिए गए विज्ञापन के ठेके का प्रस्ताव पास कराने के लिए उसे नए वर्जन में पेश कर पास कराया जाए।