थाईलैंड ने भेजा भारत, दिल्ली एयरपोर्ट से नोएडा पुलिस ने दोनों को लिया हिरासत में, न्यायालय में किया पेश
नोएडा (युग करवट)। सामूहिक बलात्कार और गैंगस्टर एक्ट के मामले में फंसे कुख्यात स्क्रैप माफिया रवि काना और उसकी महिला मैनेजर काजल झा को कल दोपहर बाद नोएडा पुलिस ने दिल्ली एयरपोर्ट से अपनी हिरासत में ले लिया है। थाईलैंड सरकार द्वारा उन्हें डिपोर्ट करके भारत भेजा गया था। उनकी बैंकॉक में गिरफ्तारी हुई थी। बैंकॉक के न्यायालय में पेश होने के बाद वहा की अदालत ने उन्हें भारत भेजने का आदेश स्थानीय सरकार को जारी किया था। नोएडा पुलिस के आला अधिकारियों ने रवि काना और काजल से गहनता से पूछताछ की है। पूछताछ के दौरान पुलिस को कई अहम सुराग मिला है। पुलिस के अधिकारियों ने उनसे पूछा है कि उसके अवैध कारोबार में कौन-कौन उन्हें संरक्षण दे रहा था। रवि काना ने कई अफसरो, नेताओं, माफिया, और मीडिया कर्मियों के नाम उगले हैं, जो उसके काले कारोबार में संलिप्त थे।
पुलिस सूत्रों के अनुसार कई बड़े नाम का खुलासा काना और काजल ने किया है। अब देखना यह है कि नोएडा पुलिस के अधिकारी क्या उन नामों का खुलासा करते हैं। कबाड़ का यह काला कारोबार अरबों रुपए का बताया जा रहा है। इस काले कारोबार के वर्चस्व में गौतम बुद्ध नगर में अब तक कई हत्याएं हो चुकी हैं। रवि काना और काजल की गिरफ्तारी पर गौतम बुद्ध नगर पुलिस ने 50- 50 हजार रुपए का इनाम घोषित किया था। स्क्रैप माफिया रवि के 250 करोड़ रुपए से ज्यादा कीमत की संपत्ति को पुलिस अब तक कुर्क कर चुकी है। पुलिस उपायुक्त ग्रेटर नोएडा साद मियां खान ने बताया कि दोनों आरोपियों को न्यायालय में पेश किया जा रहा है। पुलिस उनकी कस्टडी रिमांड के लिए न्यायालय में आवेदन कर रही है। उन्होंने बताया कि पुलिस कस्टडी रिमांड मिलने पर इनसे गहनता से पूछताछ की जाएगी, तथा इस गैंग में शामिल अन्य लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि रवि की पत्नी मधु की गिरफ्तारी के बाद पुलिस को पता चला कि आरोपी अपनी महिला मैनेजर के साथ बैंकॉक में है। उन्होंने बताया कि नोएडा पुलिस सीबीआई, इंटरपोल और उन एजेंसियों के माध्यम से रवि काना की गिरफ्तारी के लिए प्रयासरत थी।
नोएडा पुलिस द्वारा जारी की गई नोटिस के आधार पर ही बैंकॉक पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया था। पुलिस सूत्र बताते हैं कि पूछताछ के दौरान कई तथ्य सामने ऊभर कर आए हैं। उसके आका अब अपनी जान और इज्जत बचाने के लिए तरह-तरह के जुगाड़ लगाने में जुट गए हैं।

बताया जाता है कि रवि काना से पूछताछ के लिए पुलिस की विशेष टीम बनाई गई है। पुलिस के पास सवालों की लंबी लिस्ट है तथा पुलिस के पास कई लोगों के खिलाफ ठोस सबूत भी है जो रवि काना के गैंग के लिए परोक्ष या अपरोक्ष रूप से कार्य करते थे।