अयोध्या। वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद में शिवलिंग मिलने के दावों पर कांग्रेस नेता प्रमोद कृष्णम ने कहा कि ज्ञानवापी का मुद्दा आस्था और भारत की जन भावनाओं से जुड़ा है और न्यायालय में विचाराधीन है, लेकिन सवाल है कि शिवलिंग को अब तक क्यों छिपाया गया और किसने छिपाया? गौरतलब है कि प्रमोद कृष्णम सोमवार को कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा के साथ अयोध्या में रामलला और हनुमान गढ़ी का दर्शन करने पहुंचे थे। इस दौरान कांग्रेस नेता प्रमोद कृष्णम ने कहा कि प्रत्यक्ष को प्रमाण की आवश्यकता नहीं होती है, न्यायपालिका का जो भी आदेश होगा उसे सभी को मानना होगा। प्रमोद कृष्णम ने इससे भी आगे जाकर कहा कि कुतुब मीनार और ताजमहल, भारत सरकार के अधीन है और किसी धर्म से जुड़ा हुए नहीं है, ऐसे में सरकार को चाहिए कि ताजमहल और कुतुब मीनार, हिंदुओं को सौंप दें, यह विषय भारत सरकार का है लेकिन हम राष्ट्र और देश के साथ हैं।