प्रमुख अपराध संवादïदाता
गाजियाबाद (युग करवट)। १४ जुलाई को नासिरपुर फाटक के पास मिले युवक के शव की शिनाख्त गिरधरपुर मदानापुर बुलंदशहर निवासी पिन्टू यादव के रूप में हुई थी। पोस्टमार्टम की रिपोर्ट के बाद पुलिस ने मृतक के भाई सोनू यादव की तहरीर पर अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर ली थी।
यह जानकारी देते हुए सीओ कविनगर अवनीश कुमार ने बताया कि उक्त ब्लाइंड मर्डर की गुत्थी सुलझाने के लिये एसएचओ अमित सिंह की टीम ने दिन रात एक कर दिये थे। विभिन्न माध्यमों व मुखबिरों की सहायता से एसएचओ को पता चला कि पिन्टू यादव की हत्या के पीछे मृतक के साथी प्रेम किशोर निवासी छोटा घुसराना हरि सिंह डिबई व श्याम भैया निवासी नारायणपुर मदनापुर शाहजहांपुर का हाथ है।
पुलिस ने जब दोनों को गिरफ्तार किया तो उन्होंने बताया कि पिन्टू यादव उनके साथ नौकरी करता था और आये शराब पीने के लिये उनके पैसे जबरन छीन लेता था। इससे परेशान होकर उन्होंने १३ जुलाई को पहले तो पिन्टू यादव को शराब पिलाई, फिर गमछे से गला घोटकर उसकी हत्या कर दी और शव को नासिरपुर फाटक के पास फेंक दिया। बता दें कि इस खुलासे ने युग करवट की खबर को एक बार फिर से सत्य साबित कर दिया। क्योंकि, जिस समय पिन्टू यादव का शव मिला था, तभी युग करवट ने यह उल्लेखित कर दिया था कि उसकी हत्या हुई है।