प्रमुख संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। धमाकेदार जीत दर्ज करने के बाद नगर निगम कर्मचारी संघ के अध्यक्ष रवीन्द्र कुमार और उनकी नई टीम कब शपथ लेगी, इसकी तारीख तय नहीं है। वहीं, विरोधी गुट अभी से ही अपने खास लोगों को नई पोस्टिंग दिलवाने में कामयाब हो गया है। नगर निगम कर्मचारियों में गुटबंदी लंबे समय से चली आ रही है। चुनाव से पहले यह गुटबंदी चरम पर थी।
इसी गुट बंदी के चलते नगर निगम के एक कर्मचारी नेता ने तो कर्मचारी संघ के चुनाव को रुकवाने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगाया। यहीं नहीं तत्कालीन नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर से भी चुनाव रुकवाने की कोशिश की। जब वह इसमें नाकाम हो गए तो उन्होंने चुनाव की प्रक्रिया में शामिल होने का फैसला लिया।
अब नई टीम नगर निगम कर्मचारी संघ का चुनाव जीत गई है। लेकिन, निगम में अभी भी कर्मचारी के पुराने गुट की ही चल रही है। इसी के चलते पुराने नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर के जाने से पहले ही कर्मचारियों के एक गुट ने नया खेल खेला। नगर आयुक्त से संजय वर्मा की तैनाती लाइट विभाग में करा दी गई।
नगर निगम कर्मचारी संघ का चुनाव जीतने वाली टीम को इसकी जानकारी तब हुई जब पुराने नगर आयुक्त संजय वर्मा की तैनाती का आदेश कर चुके थे। इससे स्पष्टï है कि अपने-अपने लोगों को कमाई की जगह पर तैनात करने को लेकर कर्मचारियों में और गुटबंदी होगी। उधर, दूसरी ओर माना जा रहा है कि श्राद के बाद ही नगर निगम कर्मचारी संघ का शपथ समारोह होगा।