नोएडा (युग करवट)। राज्य वस्तु एवं सेवा कर विभाग की शिकायत पर थाना सेक्टर-39 पुलिस ने करोड़ों रुपए की जीएसटी चोरी करने के मामले में 6 फर्मों व उनके मालिको के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस आयुक्त आलोक सिंह के मीडिया प्रभारी पंकज कुमार ने बताया कि जीएसटी अधिकारी नरोत्तम सिंह की शिकायत पर थाना सेक्टर-39 पुलिस ने राम इंटरप्राइजेज फर्म के स्वामी मनोज कुमार, एम एस इंटरप्राइजेज के स्वामी सादिक, ब्रिलियंस इंडस्ट्रीज फर्म के स्वामी शहाना, एलाइड डेकोरेटर्स फर्म के स्वामी शहज अंसारी, मैसर्स नूर ट्रेडर्स फर्म के स्वामी नूर आलम तथा एमएस पावर इंटरनेशनल के स्वामी इरशाद अहमद भारती के खिलाफ धोखाधड़ी सहित विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। उन्होंने बताया कि आरोप है कि इन लोगों ने फर्जी तरीके से जीएसटी में अपनी फर्म रजिस्ट्रेशन करवाया तथा फर्जी तरीके से बिल काट कर लाखों रुपए का इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) प्राप्त कर लिया।
राज्य वस्तु सेवाकर के ज्वाइंट कमिश्नर मनोज विश्वकर्मा ने बताया कि हमें सूचना मिली थी कि नोएडा गाजियाबाद की कई फर्म फर्जी तरीके से जीएसटी विभाग में अपना रजिस्ट्रेशन करवाकर करोड़ों रुपए का आईटीसी हासिल कर रही है। उन्होंने बताया कि सूचना के आधार पर 23 अप्रैल को नोएडा के 22 फर्मों की जांच की गई, जिसमें 18 फर्में ऐसी मिली जिन्होंने फर्जी प्रपत्र के आधार पर अपना रजिस्ट्रेशन करवाया था। उन्होंने बताया कि 251 करोड़ रुपये का फर्जीवाड़ा नोएडा में पाया गया, जिसमें करीब 52 करोड़ का आईटीसी फर्जी तरीके से हासिल किया गया था। उन्होंने बताया कि इस मामले में पुलिस के आला अधिकारियों से मुकदमा दर्ज करने के लिए कहा गया, लेकिन उस समय मुकदमा दर्ज नहीं हुआ। उन्होंने बताया कि इस मामले में शासन को पत्र लिखा गया, उसके बाद मुकदमा दर्ज हुआ है। उन्होंने कहा कि अभी कुछ और फर्मो के खिलाफ मुकदमा दर्ज होना बाकी है।