प्रमुख अपराध संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। कमिश्नरेट बनने के बाद पुलिस अधिकारियों को मिली न्यायिक शक्तियों के फलस्वरूप उनके लिये बनने वाली कोर्ट कार्य न केवल युद्घ स्तर पर चल रहा है, बल्कि कई अधिकारियों की कोर्ट का निर्माण तो लगभग पूरा होने को है। यह जानकारी देते हुए सीपी अजय कुमार मिश्रा ने बताया कि उनकी कोर्ट अभी उनके कार्यालय में ही बनाई जा रही है जबकि डीसीपी प्रथम निपुण अग्रवाल व एसीपी फस्र्ट अंशू जैन की कोर्ट घंटाघर कोतवाली में, एसीपी द्वितीय ऑलोक दुबे की कोर्ट उनके कार्यालय के पीछे वाले स्थान पर, एसीपी कविनगर रितेष त्रिपाठी की कोर्ट मधुबन बापूधाम में स्थित कम्यूनिटी सेंटर में, वेव सिटी एसीपी की कोर्ट आदित्य वल्र्ड सिटी, डीसीपी ट्रांस हिंडन डॉ. दीक्षा शर्मा की कोर्ट उनके कार्यालय में, साहिबाबाद एसीपी पूनम मिश्रा की कोर्ट उनके कार्यालय में, एसीपी इंदिरापुरम स्वतंत्रदेव सिंह की कोर्ट आवास विकास की इमारत में, डीसपी ग्रामीण डॉक्टर इरज राजा की कोर्ट मुरादनगर बस स्टैंड के पास, एसीपी सदर निमिष पाटिल की कोर्ट दुहाई में, एसीपी मोदीनगर सुनिल कुमार सिंह की कोर्ट तहसील के पास और एसीपी लोनी की कोर्ट लोनी में ही बन रही है। श्री मिश्रा ने बताया कि अभी अधिकांश कोर्ट का निर्माण अस्थायी रूप से करवाया जा रहा है। स्थायी कोर्ट के निर्माण के लिये जमीन चिन्हित की जा रही है। जमीन के चिन्हित होते ही वहां कमिश्नरेट के अधिकारियों के लिये स्थायी कोर्ट को निर्माण करवाया जायेगा। श्री मिश्रा ने बताया कि अपर आयुक्त/प्रभारी दिनेश कुमार पी की कोर्ट फिलहाल उन्हें अलॉट किये गये डीसीपी ग्रामीण के कार्यालय में ही बनवाई जायेगी।