युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। बकाया भुगतान नहीं होने को लेकर निगम को ठेकेदारों ने एक और झटका दिया। निगम के निर्माण विभाग द्वारा हाल ही में करीब 25 करोड़ रुपये के विकास कार्यों के टेंडर मांगे थे। ठेकेदारों ने इनका भी बहिष्कार कर दिया। इन टेंडरों की संख्या 100 के आसपास है।
ठेकेदारों और नगर निगम के बीच भुगतान को लेकर पहले से ही तनातनी का दौर चल आ रहा है। गत दिनों ठेकेदारों ने नगर निगम प्रशासन को एक ज्ञापन देकर विकास कार्यों के टेंडर के बहिष्कार की सूचना दी थी। अब लगता है कि ठेकेदार अपनी बात पर कायम है। हेल्थ विभाग के बाद ठेकेदारों ने नगर निगम के निर्माण विभाग के भी कई करोड़ रुपये के विकास कार्यों के टेंडर नहीं खरीदे है। निगम सूत्रों का दावा है कि कुल 100 कार्यों में से केवल दस कार्यों के टेंडर की बिक सके है। जो टेंडर सेल हुए है वह भी मानक के हिसाब से नहीं डाले गए है। एक तरह से कई करोड़ रुपये के करीब 90 विकास कार्यों का निगम ने शतप्रतिशत बहिष्कार कर निगम अधिकारियों को टेंशन में डाल दिया। अब देखना है कि निगम इस मामले में क्या कदम उठाता है। इस मामले में नगर निगम के चीफ इंजीनियर एनके चौधरी ने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया।