युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। कंप्लीशन लिए बगैर आवंटियों को कब्जा देने वाले बिल्डरों की टेंशन बढ़ाने वाली है। जीडीए अगले महीने से ऐसे सभी बिल्डरों को कारण बताओं नोटिस जारी करने की तैयारी में है। इसके लिए जीडीए पर प्रशासन की ओर से भी दबाव बना रहा है।
जीडीए के विकास क्षेत्र में ऐसे कई बिल्डर हो सकते है जो निशाने पर आने जा रहे है। जीडीए के नियोजन विभाग कहता है कि नक्शा पास कराने के बाद बिल्डर तब ही फ्लैट पर आवंटियों को कब्जा दे सकता है जब बिल्डर ने कंप्लीशन सर्टिफिकेट जीडीए से हासिल कर लिया हो। इसके लिए नियोजन विभाग का अपना नियम है। मगर देखने में आ रहा है कि इस मामले में कई बिल्डर अपार्टमेंट एक्ट 2011 का अनुपालन नहीं कर रहे है। इसी को लेकर अब जीडीए का नियोजन विभाग एक बार फिर से सख्ती दिखाने जा रहा है। दरअसल गत दिनों जिला प्रशासन की ओर से जीडीए को एक पत्र लिखा गया था। जिसमें आरोप लगाया था कि कई ऐसे बिल्डर है जिन्होंने आवंटियों से फ्लैट की कीमत में रजिस्ट्री का पैसा जोड़ कर ले लिया है। मगर आवंटियों को कब्जा दे दिया और रजिस्ट्री नहीं की है। इससे राजस्व विभाग को भी मोटी आर्थिक चपत लग रही है। संभावना है कि यह सभी ऐसे बिल्डर है जिन्होंने जीडीए से कंप्लीशन सर्टिफिकेट हासिल नहीं किया है। इसी के बाद एक बार फिर से जीडीए एक्शन में आ गया है। जीडीए ऐसे बिल्डरों की सूची तैयार करने में जुटा है जिन्होंने कंप्लीशन सर्टिफिकेट नहीं लिया है।