प्रमुख संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। अवैध निर्माण करने के बाद कंपाउंड नहीं कराने वाले आवंटियों को अब जीडीए निशाने पर लेने जा रहा है। इसके लिए जीडीए हर जोन में एक स्पेशल सर्वे कराने में जुट गया है। जीडीए की टीम ऐसे निर्माण का पता लगाने की कोशिश में है जो जीडीए से पास नक्शे से अधिक क्षेत्र में किया गया है। जीडीए के नियोजन विभाग की ओर से यह स्पेशल अभियान चलाया जा रहा है। हाल ही में जीडीए अधिकारियों को इस बात की खबर लगी है कि काफी ऐसे लोग हैं, जिन्होंने जीडीए से निर्माण का नक्शा पास करा लिया है, मगर काफी लोगों ने नक्शे से भी अधिक निर्माण कार्य कर लिया है और ऐसा करना अपराध की श्रेणी में आता है। अगर कोई नक्शे पास के कुल क्षेत्र का दस प्रतिशत अधिक निर्माण कार्य करता है तो उसको नियमित किया जा सकता है, यह अधिकार जीडीए के पास है। जीडीए इसके लिए अतिरिक्त शुल्क लेकर उसे कंपाउंड कर देता है। मतलब है कि नक्शे से अधिक जितना निर्माण होगा जीडीए उसका अतिरिक्त चार्ज लेकर उसे रेगुलर कर देगा। इससे जीडीए को करोड़ों की इनकम होगी। जीडीए सचिव बृजेश कुमार और अन्य अधिकारी भी अब जीडीए की इनकम बढ़ाने की कोशिश में लगे हुए हैं। इसी क्रम में जीडीए के आठों जोन में अवैध निर्माण के खिलाफ यह अभियान चलाया गया है। इस अभियान को सफल बनाने की जीडीए पूरी कोशिश में जुटा है। माना जा रहा है कि इस अभियान के तहत कई सौ अवैध निर्माण चिन्हित कर जीडीए कंपाउंड करेगा।