प्रमुख अपराध संवाददाता
मसूरी (युग करवट)। गाजियाबाद आगमन के दौरान उत्तर प्रदेश अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष डॉक्टर रामबाबू हरित ने मीडिया से रूबरू होते हुए एससी-एसटी जातियों के साथ घटित हुए अपराधिक व प्रताडऩा संबंधित मामलों का ब्यौरा शेयर किया। इस मौके पर डॉक्टर हरित ने बताया कि जून २०२१ से लेकर जून २०२२ तक ६३०० प्रार्थनापत्र प्राप्त हुए। इनमें से ४३१२ प्रार्थनापत्र संबंधित विभागों के अधिकारियों को अपने स्तर पर निस्तारित करने के लिये भेज गये। जबकि, १९८८ प्रार्थनापत्रों का निस्तारण संबंधित विभागों के अधिकारियों की आख्याऐं मंगाकर आयोग द्वारा किया गया।
श्री हरित ने बताया कि इन प्रार्थनापत्रों के निस्तारण के दौरान आयोग के द्वारा पीडि़तों को १ करोड़ ७४ लाख ९१ हजार २५० रुपये की आर्थिक सहायता भी दी गई। साथ ही अधिकारियों को ये निर्देश भी दिये गये कि किसी भी हालत में एस-एसटी जातियों के लोग न तो प्रताडि़त हों और साथ ही उनकी शिकायतों का निस्तारण भी निष्पक्षता के साथ त्वरित स्तर पर किया जाये।