गाजियाबाद। इंदिरापुरम कॉलोनी में कई वर्षों से जीडीए द्वारा बनाया गया कूड़े का पहाड़ अब नगर निगम के लिए मुसीबत बन गया है। कूड़ा निस्तारण के लिए वैसे एक कंपनी बायोरेमेडिएशन का कार्य कर रही है। मगर तय समय सीमा के अंदर कार्य पूरा नहीं होने के कारण एनजीटी ने निगम पर एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगा दिया। निगम की हिस्ट्री में पहली बार एनजीटी ने इतना बड़ा जुर्माना लगाने का कार्य किया है। इससे निगम के अधिकारियों के होश उड़े है। अब नगर निगम इस जुर्माने को माफ कराने की कोशिश में है। निगम ने फैसला लिया है कि वह जल्दी ही इस प्रकरण में एनजीटी के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौति देगा। नगर निगम को इसमें कितनी सफलता मिलेगा इस पर शासन की भी नजर है। दरअसल नगर निगम पर इतना बड़ा जुर्माना चर्चा का विषय बना हुआ है।