युग करवट ब्यूरो
कानपुर। उत्तर भारत के दूसरे इलाकों की तरह कानपुर में भी शीत लहर का बहुत तेजी से प्रकोप बढ़ रहा है। इसी वजह से हृदय रोगों की समस्या बढ़ रही है। कानपुर के हृदय संस्थान में एक ही दिन में ७२३ मरीज इलाज कराने पहुंचे। इनमें से ४० से ज्यादा मरीजों की हालत गंभीर पाई गई। एहतियातन उन्हें तुरंत भर्ती कराया गया। हृदय संस्थान के डॉक्टर्स ने बताया कि बीते दिन ७२३ में से ३९ मरीजों का ऑपरेशन करना पड़ा। एक मरीज की एंजियोग्राफी कराई गई। वहीं, ७ लोगों की इलाज के दौरान मौत हो गई। साथ ही हार्ट और ब्रेन अटैक से पूरे शहर में रोगियों की मौत का आंकड़ा २५ रहा। इनमें से १७ हृदय रोगी तो कार्डियोलॉजी की इमरजेंसी तक ही नहीं पहुंच पाए। उन्हें चक्कर आया, बेहोश हुए और खत्म हो गए। जनवरी माह की भारी ठंड लोगों के दिल और दिमाग दोनों पर भारी पड़ रही है। डॉक्टरों का कहना है कि ठंड में अचानक ब्लड प्रेशर बढऩे से नसों में ब्लड क्लॉटिंग यानी खून का थक्का जम जाता है। इसी वजह से हार्ट अटैक और ब्रेन अटैक पड़ रहा है।