युग करवट संवाददाता
लखनऊ। प्रदेश में राष्टï्रविरोधी गतिविधियां चलाकर धार्मिक ं संप्रदायों के बीच वैमनस्य स्थापित करने और कानून के विरूद्घ जाकर धर्म परिवर्तन करवाने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया गया है। यूपी एटीएस ने रुपए, नौकरी और शादी का लालच देकर धर्मांतरण कराने वाले गिरोह का खुलासा किया है। एटीएस टीम ने सोमवार को गिरोह के दो सदस्य काजी जहांगीर आलम और मोहम्मद उमर गौतम को गिरफ्तार किया है। गिरोह पर अब एक हजार लोगों को धर्मांतरण करके मुस्लिम बनाने का आरोप है। इन्हें पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई और विदेशी फंडिंग होती थी। एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने सोमवार को लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह जानकारी दी। आरोप है कि दोनों ने गाजियाबाद के मसूरी क्षेत्र में एक हजार से ज्यादा हिन्दुओं का धर्मांतरण किया है।
उन्होंने बताया कि पिछले कुछ समय से जानकारी मिल रही थी कि कुछ राष्टï्रविरोधी धार्मिक संगठन अथवा सिंडीकेट आईएसआई व भारत विरोधी संस्थाओं के निर्देश पर धर्म परिवर्तन करवा रहे हैं। ऐसे तत्व सांप्रदायिक सौहार्द को बिगाड़कर संप्रदायों के बीच नफरत फैलाने और दंगा करवाने की भी साजिश रच रहे हैं। उन्होंने बताया कि दोनों आरोपी मोहम्मद उमर गौतम और मुफ्ती काजी जहांगीर कासमी दिल्ली के जामिया नगर इलाके के निवासी हैं। दोनों आरोपी पर यूपी ही अन्य प्रदेश में भी धर्मांतरण कराने का आरोप है। लोग गरीब हिंदुओं को निशाना बनाते थे और अब तक एक हजार से ज्यादा हिंदुओं का धर्मांतरण कर चुके हैं। ये दोनों मौलाना ज्यादा मूक बधिर और महिलाओं का धर्म परिवर्तन करवाते थे। उमर और उसके साथियों द्वारा धर्म परिवर्तन के लिए इस्लामिक दवा सेंटर, कार्यालय पता- सी 2, जोगाबाई एक्सटेंशन, जामिया नगर, नई दिल्ली, नाम की संस्था चलाई जा रही थी। इस काम के लिए संस्था को भारी विदेशी फंडिंग भी होती थी। ये लोग धर्मांतरण से सम्बंधित प्रमाण पत्र और विवाह के प्रमाण पत्र भी गैर कानूनी रूप से तैयार करवाते थे। श्री कुमार ने बताया कि मुफ्ती काजी जहांगीर आलम काशमी पुत्र ताहिर अख्तर और मौहम्मद उमर गौतम पुत्र स्वर्गीय धनराज सिंह गौतम के खिलाफ ४२०, १२० (बी), १५३(ए), १५३ (बी), २९५ व ५११ आईपीसी और ३/५ उत्तर प्रदेश विधि विरूद्घ धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश के तहत रिपोर्ट दर्ज कर अग्रिम कार्रवाई शुरू कर दी। श्री कुमार ने बताया कि ऐसे राष्टï्रविरोधी असामाजिक तत्वों एवं संगठनों के खिलाफ चलाई जा रही मुहिम निरंतर जारी रहेगी।