युग करवट संवाददाता
ग्रेटर नोएडा। ग्रेटर नोएडा स्थित इंडिया एक्सपोर्ट सेंटर एंड मार्ट में एक समाचार पत्र द्वारा आयोजित विमर्श कार्यक्रम में बुधवार को पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक बार फिर नोएडा (गौतमबुद्धनगर) को लेकर 3 दशक पुराना मिथक तोड़ा है। उत्तर प्रदेश की राजनीति में मान्यता है कि जो भी वर्तमान मुख्यमंत्री नोएडा (गौतमबुद्धनगर) आता है, उसकी सत्ता चली जाती है। कालांतर में ऐसा होता भी आया है। 23 सालों के दौरान सिर्फ मायावती ने ही बतौर मुख्यमंत्री रहते नोएडा का दौरा किया था और अब मौजूदा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मिथक को कई बार तोड़ा है। सीएम योगी अब तक आधा दर्जन से अधिक बार नोएडा-ग्रेटर नोएडा आ चुके हैं। हालांकि, इससे पहले मायावती ने नोएडा का दौरा किया था। इसमें एक और बात शामिल है कि अखिलेश यादव ने बतौर मुख्यमंत्री रहते नोएडा का दौरा नहीं किया, लेकिन उनकी सत्ता फिर भी चली गई। बुधवार को ग्रेटर नोएडा स्थित इंडिया एक्सपोर्ट सेंटर एंड मार्ट में पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने संबोधन की शुरुआत ही नोएडा को लेकर बनी रूढि़वादी से की। उन्होंने कहा कि एनसीआर का यह क्षेत्र अलग-अलग कारणों से जाना जाता है। खास तौर पर गौतमबुद्ध नगर जनपद क्षेत्र को पूर्व के मुख्यमंत्रियों द्वारा अभिशप्त माना जाता था। हमने इस रूढि़वादी परंपरा को तोड़ा है। बता दें कि कुछ साल पहले बतौर सीएम योगी आदित्यनाथ ने दावा किया था कि नोएडा बस एक मिथक है और वो इसे तोड़कर रहेंगे।