युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। अपनी मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल कर रहे एंबुलेंस चालकों को लेकर अब प्रदेश की सरकार सख्त हो गई है। इस मामले में राष्टï्रीय स्वास्थ्य मिशन निदेशक अपर्णा उपाध्याय ने डीएम और सीएमओ को पत्र लिखकर एंबुलेंसों के निर्बाध संचालन के निर्देश दिए हैं।
बता दें कि नई कंपनी को टेंडर दिए जाने और कंपनी द्वारा पुराने कर्मचारियों को हटाने, वेतन कम किए जाने के विरोध में पूर्व एंबुलेंस कर्मी पूरे प्रदेश में अनिश्चितकालीन हड़ताल कर रहे हैं। इसकी वजह से १०२, १०८, एएलएस एंबुलेंस की सेवाएं बाधित हो रही हैं। हालांकि, कुछ एंबलुेंस आपात स्थिति में संचालित हो रही हैं लेकिन इस हड़ताल से सरकारी अस्पतालों में आने वाले मरीज सबसे अधिक प्रभावित हो रहे हैं। इस हड़ताल को लेकर अब प्रदेश सरकार ने कड़े कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। जिले के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वह एंबुलेंस के संचालन के लिए समन्वय स्थापित करें। एजेंसी को भी सहयोग करने के लिए कहा गया है ताकि एंबुलेंस सेवाएं बाधित ना हों। सीएमओ डॉ.भवतोष शंखधर ने बताया कि आईएमए के डॉक्टर्स और निजी अस्पतालों को इस संबंध में अवगत कराया गया है और उनसे अस्पताल की एंबुलेंस तैयार रखने के लिए कहा गया है। आपात स्थिति में निजी अस्पतालों से एंबुलेंस ली जाएंगी जिससे मरीजों को किसी प्रकार की दिक्कतों का सामना ना करना पड़े। वहीं अगर हड़ताल समाप्त नहीं हुई तो प्रदेश सरकार इस मामले पर कोई कड़ा कदम भी उठा सकती है।