ग करवट ब्यूरो
नई दिल्ली। उद्घव ठाकरे को एक और बड़ा झटका लगा है। एकनाथ शिंदे की बगावत के बाद महाराष्ट्र की सत्ता गंवा चुकी शिवसेना के हाथ से एक-एक कर नगर निगम और नगर पालिकाएं भी जाने लगी हैं। कल्याण डोंबिवली महानगरपालिका में शिवसेना के 55 पार्षदों ने एकनाथ शिंदे गुट को समर्थन दिया है। कल्याण डोंबिवली महानगरपालिका के अध्यक्ष राजेश मोरे भी शिंदे गुट में शामिल हो गए हैं।
उधर, सुप्रीम कोर्ट 11 जुलाई को उद्धव ठाकरे के गुट से लगाई गई उस याचिका पर सुनवाई के लिए तैयार हो गया है, जिसमें एकनाथ शिंदे के सीएम बनने को चुनौती दी गई है। महाराष्ट्र में शिवसेना के लिए ये बड़ा झटका माना जा रहा है। इससे पहले नवी मुंबई में शिवसेना के 32 पार्षदों ने एकनाथ शिंदे से मिलकर अपना समर्थन दिया था। कल ठाणे नगर निगम में शिवसेना के 67 में 66 पार्षद एकनाथ शिंदे गुट में शामिल हो गए थे। मुंबई महानगर क्षेत्र में मुंबई, ठाणे, नवी मुंबई, कल्याण-डोंबिवली, उल्हासनगर, मीरा भायंदर, वसई-विरार, पनवेल और भिवंडी निजामपुर जैसी 9 महत्वपूर्ण नगर निगम हैं। ठाणे में एकनाथ शिंदे की पकड़ मजबूत मानी जाती है, लेकिन अब एकनाथ शिंदे ने 3 नगर निगम पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली है। महाराष्टï्र से आ रही खबरों के मुताबिक शिवसेना के कई और नेता एकनाथ शिंदे के संपर्क में हैं।