युग करवट ब्यूरो
लखनऊ। दिल्ली सहित देश के चार राज्यों में मिले ओमिक्रोन वैरिएंट के बीच उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के नए केस मिलने से स्वास्थ्य विभाग की टीम गंभीर हो गई है। प्रदेश में 81 दिन के बाद कोरोना वायरस संक्रमण का ग्राफ बढ़ा है। बीते 24 घंटे में 29 नए संक्रमित मिलने के बाद अब चौकसी बढ़ा दी गई है। सरकार का फोकस ट्रैक के बाद टेस्टिंग पर फिर बढ़ गया है। देश में कोरोना वायरस संक्रमण की तीसरी लहर की आशंका के बीच में बीते 24 घंटों के दौरान संक्रमण के 29 नए केस मिले हैं। शनिवार को 27 नए संक्रमितों की जानकारी मिली है। इससे पहले 14 सितंबर को कोरोना वायरस संक्रमण के 33 नए केस मिले थे। करीब तीन महीने बाद इतनी बड़ी संख्या में संक्रमित मिलने से अब सरकार के माथे पर एक बार फिर बल पड़ा है। 29 नए संक्रमित में सर्वाधित दस मथुरा में मिले हैं। इसके साथ लखनऊ में पांच, बरेली में चार गौतम बुद्ध नगर, वाराणसी व कानपुर नगर में दो-दो तथा गाजियाबाद, गोरखपुर, संभल व शामली एक-एक नए संक्रमित मिले हैं। प्रदेश में अब 139 एक्टिव केस हैं। कभी एक्टिव केस 90 तक सिट गए थे। वहीं नई दिल्ली में आज नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप आन इम्युनाइजेशन (एनटीएजीआइ) की बैठक हुई। इस बैठक में कम इम्युनिटी वाले लोगों को वैक्सीन की एक अतिरिक्त डोज लगाने पर फैसला लिया जाएगा। विशेषज्ञों के अनुसार यह तीसरा डोज बुस्टर डोज से अलग होगा। ओमिक्रोन को लेकर उत्तर प्रदेश में भी काफी सख्ती की जा रही है। ओमीक्रोन वैरिएंट के मद्देनजर सरकार की ओर से नई गाइडलाइन जारी की गई है जिसके अनुसार, राज्य में एंट्री ले रहे हर शख्स की थर्मल स्क्रीनिंग कराई जाएगी। इसके अलावा अगर कोई शख्स पॉजिटिव पाया जाता है तो उसे आइसोलेट किया जाएगा। वहीं आगरा से लापता सौ विदेशियों की तलाश जारी है।