युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। लॉकडाउन को सफल बनाने और कोरोना संक्रमण की चेन तोडऩे के लिए प्रदेश सरकार ने और सख्ती करनी शुरू कर दी है। अब एक से दूसरे जिलों व राज्यों में प्रवेश के लिए ई-पास जरूरी होगा। आवश्यक वस्तुओं एवं सेवाओं की आपूर्ति के लिए भी ई-पास अनिवार्य होगा।
अंर्तजनपदीय एवं प्रदेश के बाहरी राज्यों के लिए विशिष्टï मामलों में ई-पास जारी किया जाएगा जिसके लिए एडीएम सिटी को नामित किया गया है। चिकित्सकों से सेवा प्राप्त करने के लिए भी ई-पास जारी किया जाएगा व आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति और सेवा के लिए भी ई-पास आवश्यक होगा। इसके लिए आवेदक ‘राहतडॉटयूपीडॉटएनआईसीडॉटइनÓ पर आवेदन कर सकेगा। सत्यापन के बाद आवेदक को मोबाइल पर लिंक भेजा जाएगा जहां से वह अपना पास डाउनलोड कर सकेगा। ई-पास की इलेक्ट्रॉनिक कॉपी भी मान्य होगी। जिले की सीमा के अंदर ई-पास जारी करने के लिए एसडीएम व प्रदेश की सीमा के बाहर ई-पास जारी करने के लिए एडीएम को नामित किया गया है। चेकिंग के दौरान पुलिस पास के क्यूआर कोड से जांच कर सकेगी लेकिन इसमें औद्योगिक गतिविधियों, मेडिकल, आवश्यक सेवाओं, ई-कॉमर्स ऑपरेशंस, आपात चिकित्सा स्थिति वाले व्यक्ति, दूरसंचार सेवाएं, डाक सेवा, प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया व इंटरनेट सेवा से जुड़े लोगों को ई-पास से छूट बरकरार रखी गई है। बेवजह सड़कों पर लोगों के आवागमन को रोकने के लिए ई-पास की अनिवार्यता रखी गई है।