आजकल हर चैनल पर बाबा बागेश्वर जी की चर्चाएं चल रही हैं। उनके चमत्कार पर उंगलियां उठ रही हैं। कोई उन्हें पाखंडी तो कोई उन्हें जादूगर कह रहा है। कोई कह रहा है उन्हें जेल में डाल दो, लेकिन उनका दरबार लगातार जारी है और भक्तों की संख्या भी रोज बढ़ रही है। वह मीडिया वालों को भी चैलेंज करते हैं, नेताओं को भी चैलेंज करते हैं, लेकिन अभी तक उनके चमत्कार की असलियत किसी के सामने नहीं आई है। कोई दरबार की आड़ में धर्म परिवर्तन का मामला बता रहा है। जो भी हो बाबा बागेश्वर जी की चारों तरफ चर्चा है और बाबा धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री हर चुनौती का सामना करने को तैयार हैं। उनके दरबार में एक ऐसा मामला सामने आया जिसमें धर्म परिवर्तन के आरोप को बल दिया। हालांकि जिसने धर्म परिवर्तन किया उसने खुद ही धर्म स्वीकार करने की बात कही। बाबा का दरबार चल रहा था इसी दरमियान छत्तीसगढ़ विलासपुर की रहने वाली एक महिला उनके पास आती है और अपना नाम सुल्ताना बताती है। साथ ही हिन्दू धर्म में आस्था जताते हुए हिन्दू धर्म स्वीकार करने की बात करती है। बाबा धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने तत्काल मंच से उनका स्वागत किया और फिर उनका नामकरण करते हुए उनका नाम सुरभि रख दिया। सुल्ताना ने भी बाबा को अपना भाई माना और राखी बांध दी। इतना ही नहीं दरबार में तीन क्रिश्चियन परिवारों ने भी हिन्दू धर्म अपनाया। बाबा बागेश्वर के दरबार में जो व्यक्ति आता है और जो उसके मन में सवाल होता है वे पहले बाबा एक कागज दिखाते हैं, जिसमें पूछने वाले प्रश्न पहले से ही होते हैं। इसको लेकर लोग चमत्कार मान रहे हैं, लेकिन बाबा के विरोधी भी चारों ओर बढ़ते जा रहे हैं। कोई कह रहा है वाह ढोंगी हैं, पाखण्डी हैं, जादूगर हैं, लेकिन हकीकत जो भी है बाबा के भक्तों की संख्या बढ़ती जा रही है। इसमें कोई दो राय नहीं है कि किसी के अंदर भी कोई शक्ति आ सकती है और वो उसके इस्तेमाल से लोगों के दुख दर्द दूर कर सकता है। इससे पहले भी लोगों के अंदर शक्तियां देखी गई हैं। अब बाबा के दरबार में जिस तरह भक्तों की संख्या बढ़ रही है और राजनेता वहां पहुंच रहे हैं, आने वाले दिनों में यह बाबा कितने और चमत्कार करेंगे, इस पर सबकी नजर है। बाबा ने साफ कहा कि वह आलोचना से डरने वाले नहीं है। यहां ये भी बताना जरूरी है कि बाबा ने सबको दरबार में आने की चुनौती दी थी, लेकिन विरोध करने वाला एक भी व्यक्ति बाबा के दरबार में नहीं पहुंचा। – जय हिन्द।