प्रमुख संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। इंदिरापुरम कॉलोनी में अवैध निर्माण का ब्रैक लग जाने के बाद अब बिल्डर वहां से दूसरी कॉलोनी में जाने लगे है। इंदिरापुरम कॉलोनी से खुद को शिफ्ट करने वाले कई बिल्डर अब लोनी और आसपास के एरिया में शिफ्ट होने लगे है। दरअसल इंदिरापुरम कॉलोनी में तेजी के साथ अवैध निर्माण का धंधा चौपट हो गया है। जीडीए वीसी आरके सिंह के निर्देश पर इसको लेकर फोकस किया गया। एक जमाना था कि इंदिरापुरम कॉलोनी में तेजी के साथ अवैध निर्माण होता था। सांठगांठ कर अवैध फ्लैट को बेचने के लिए बैंक से भी लोन करा लिया जाता था। अब जीडीए ने जब से फ्लैट की खरीद के लिए बैंक लोन की जांच अनिवार्य की तब से इंदिरापुरम कॉलोनी में अवैध निर्माण पर काफी अंकुश लगा है। अब इस कॉलोनी में मोटी कमाई कर रहे कई बिल्डरों के बारे में खास खबर आई है। पता चला है कि जीडीए की सख्ती के कारण कई बिल्डर अपना कारोबार अब इंदिरापुरम कॉलोनी से दूसरी कॉलोनियों में शिफ्ट कर रहे है। सूत्रों का कहना है कि कई तो ऐसे ठेकेदार है जो इंदिरापुरम कॉलोनी से अपना कारोबार, लोनी, और आवास विकास परिषद की सिद्घार्थ विहार कॉलोनी तथा वसुंधरा कॉलोनी में शिफ्ट कर रहे है। माना जा रहा है कि भविष्य में आवास एवं विकास परिषद की कॉलोनी में भी कई बिल्डर अपना कारोबार शिफ्ट कर रहे है। अब देखना है कि इन एरिया में बिल्डरों को नियमानुसार जीडीए कैसे पाठ पढ़ाएगा।