गाजियाबाद (युग करवट)। साहिबाबाद पुलिस द्वारा संगीन धाराओं में जेल भेजे गये पार्षद सुधीर कुमार का मामला अभी भी आश्वासनों और मंथनों तक ही फंसा हुआ है। तीन दिन बाद भी पुलिस अभी तक कोई भी संतोषजनक कार्रवाई पार्षदों की मांग पर नहीं कर पायी है। तीन दिन पहले पार्षदों ने निगम में महापौर सुनीता दयाल के सामने विरोध दर्ज कराया था। सुनीता दयाल ने अधिकारियों को बुलाकर पार्षद की गिरफ्तारी पर नाराजगी जताई थी उसके बाद शाम को पार्षद एडिशनल सीपी कल्पना सक्सेना से मिले थे जिन्होंने पार्षदों को आश्वासन दिया था कि ४८ घंटे रिपोर्ट आने के बाद सही कार्रवाई होगी। अगले दिन फिर पार्षद एडिशनल सीपी से मिले तो कोई बात नहीं बनी तो फिर सीपी से मिलने जा रहे थे तब उनको रोक लिया था और पार्षद सडक़ पर बैठ गये थे। बाद में फिर आश्वासन मिला इसके बाद कल फिर निगम में बैठक हुई और मंथन हुआ। आज फिर निगम में पार्षदों की बैठक हुई और आगे क्या कदम उठाया जाये इस पर मंथन हुआ। बैठक के बाद पार्षद एडिशनल सीपी कल्पना सक्सेना से मिले और जांच रिपोर्ट के बारे प्रगति जानी। इस अवसर पर प्रवीन चौधरी, मनोज गोयल, धीरेन्द्र यादव, प्रदीप चौहान, शीतल चौधरी, नीरज गोयल, वीरेंद्र त्यागी, अमित त्यागी, मनोज त्यागी और यशपाल पहलवान आदि मौजूद रहे।