गाजियाबाद। शहर में कई ऐसी नर्सरी ऐसी है जिन पर आरोप है कि उन्होंने आवंटन से अधिक जमीन कब्जे में ली हुई है। इस तरह की कई शिकायत नगर निगम के पास पहुंच चुकी है। निगम प्रशासन इसको लेकर अब एक्शन में आ गया है। निगम ने अब सभी नर्सरी के आवंटियों को निर्देश दिया कि वह अपने यहां बोर्ड लगाए। बोर्ड पर नर्सरी का नाम, उसे नगर निगम द्वारा आवंटित ग्रीन बैल्ट वर्ग मीटर में, तथा आवंटन की अवधि लिखनी होगी। निगम को लगता है कि इस प्रकार के बोर्ड लग जाने से नर्सरी मालिकों और निगम प्रशासन दोनों को ही फायदा होगा। आम आदमी को भी पता होगा किस नर्सरी को नगर निगम से कितनी जमीन का आवंटन हुआ है। साथ ही इससे पारदर्शिता बनेगी। पूरे शहर में नगर निगम प्रशासन की ओर से करीब डेढ़ सौ से अधिक नर्सरी को ग्रीन बैल्ट का आवंटन किया गया है। ग्रीन बैल्ट के आवंटन के बाद अब नया विवाद सामने आ रहा है। विवाद है कि कई ऐसी नर्सरी पर आरोप है कि उन्होंने आवंटन से अधिक जमीन पर कब्जा कर लिया है। नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर का दावा है कि बोर्ड के लग जाने के बाद पारदर्शिता बढ़ेगी।