युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। एक करोड़ की रकम को डेढ़ गुना या दुगना करने का लालच देकर कारोबारी आनंद के कथित चाचा दीपक पलटा ने अपने आधा दर्जन से अधिक सहयोगियों के साथ मिलकर पहले तो व्यवसायी को ठगने का प्रयास किया लेकिन जब आनंद उनके झांसे में नहीं आया तो एक करोड़ की रकम हाथ से ना जाने पाये, इस साजिश के तहत लूट की योजना बना डाली। इसके बाद दीपक पलटा ने एक पूर्व विधायक के पुत्र बॉबी और अरविंद त्यागी के साथ लूट का ताना-बाना बुन दिया। लूट का ताना बाना बुनने के बाद उन्होंने लूटपाट करने वाले गैंग से संपर्क साधकर चार लुटेरों को अपनी साजिश में शामिल कर लिया। साथ ही पुलिस के शिकंजे में फंसने से बचने के लिये दीपक पलटा ने खुद पर भी हमला करवा लिया। पुलिस सूत्रों की माने तो अपराधियों का यह गैंग जिसका सरगना दीपक पलटा निवासी गुरुग्राम व विधायक का पुत्र बॉबी निवासी हापुड़ है, ने एक करोड़ की रकम लूटने की योजना बनाई थी, लेकिन चावल कारोबारी आनंद के द्वारा बदमाशों का विरोध करने के साथ-साथ शोर मचा देने पर जब वहां लोग जमा होने लगे तो बदमाश ४५ लाख की रकम से भरा बैग ही लूटकर भाग गये। उक्त सनसनीखेज लूट की वारदात का खुलासा पुलिस आज कर रही है। खुलासे से पहले पुलिस ने जहां वारदात का ताना बाना बुनने वाले दीपक पलटा व बोबी सहित आधा दर्जन से अधिक बदमाशों को गिरफ्तार करके लूटी गई रकम और हथियार बरामद करने में सफलता प्राप्त की है वहीं पुलिस की कई टीम वारदात में शामिल शेष बदमाशों, जिनकी संख्या तीन से अधिक बताई जा रही है, उनकी गिरफ्तारी के लिये भी एसपी सिटी प्रथम निपुण अग्रवाल के निर्देशन में कविनगर व क्राइम ब्रांच की कई टीम लूट में शामिल फरार बदमाशों के ठिकानों पर दबिश मार रही हैं। खुलासे के समय यह बात भी सामने आई कि यह गैंग पहले भी इस प्रकार की वारदातों को अंजाम देता रहा है। एक पुलिस अधिकारी ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि इस गैंग के पकड़े जाने पर कई और संगीन वारदातों का खुलासा हो सकता है। उस अधिकारी का यह भी कहा है कि लूटी गई रकम में से अधिकांश रकम बरामद हो गई है। बता दें कि बुधवार को आरडीसी की व्यवसायिक इमारत देविका टॉवर/चेंबर में स्थित जीएफ-२८ में स्थित एक अधिवक्ता के ऑफिस में बदमाशों ने चैन्नई में रहने वाले आन्नद नामक कारोबारी व उसके कथित चाचा दीपक पलटा के सिर पर तमंचे की बट मारकर ४५ लाख की रकम से भरा बैग दोपहर एक बजे के आस-पास लूट लिया था।