– युग करवट ब्यूरो –
लखनऊ। भारत निर्वाचन आयोग की चार सदस्यीय एक टीम बीती रात लखनऊ पहुंची। टीम के सदस्यों ने आज सुबह सभी जिलों के डीएम और एसएसपी के साथ बैठक की। बैठक की अध्यक्ष मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुशील चंद्रा ने की। इस बैठक में चुनाव आयोग के सदस्यों ने सभी जिलों में विधानसभा चुनाव की तैयारियों की रिपोर्ट ली। जिन जिलों में कमिश्नरी प्रणाली है, वहां के कमिश्नर और दूसरे जिलों के डीएम और एसएसपी ने चुनाव संबंधी तैयारियों की जानकारी दी। बैठक में ज्यादातर जिलाधिकारियों ने बताया कि उनके जिलों में मतदाता सूची के पुनरीक्षण का काम पूरा गया है। नए वोटर्स का नाम शामिल करने के लिए कैंप लगाए गए थे। यह काम भी पूरा हो गया है। लेकिन मतदाताओं की अंतिम सूची अभी जारी नहीं की गई। आयोग के सदस्यों ने सभी जिलों की कानून-व्यवस्था को लेकर भी अधिकारियों की राय ली। चुनाव के दौरान सुरक्षाकर्मियों की तैनाती को लेकर भी चर्चा की गई।
योजना भवन में आयोजित बैठक में सभी जिलों के डीएम के अलावा एसएसपी और उच्च अधिकारी शामिल हुए। आयोग की टीम में मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा और चुनाव आयुक्त राजीव कुमार व अनूप चंद्र पांडेय शामिल थे। आयोग के सदस्य गुरुवार को सुबह डीजीपी व मुख्य सचिव के साथ बैठक करेंगे। दोपहर में 12 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस की जाएगी। आयोग चुनाव की तमाम तैयारियों के साथ-साथ कोविड की मौजूदा स्थिति और नए वैरिएंट के प्रभाव को भी लेकर चर्चा होगी।
चुनाव टालना संभव नहीं
वहीं, लखनऊ पहुंचने पर चुनाव आयोग की टीम के सदस्यों का कहना है कि पांच में से किसी भी राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव को टालना मुमकिन नहीं है। सभी प्रदेशों से कोरोना वैक्सीनेशन की रिपोर्ट ली गई है। चुनाव प्रक्रिया के दौरान कोरोना नियमों का पालन किया जाएगा।
अवनीश अवस्थी को चुनाव प्रक्रिया से दूर रखने की मांग
चुनाव आयोग की टीम ने योजना भवन में भारतीय जनता पार्टी, समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, कांग्रेस तथा अन्य दल के नेताओं के साथ भेंट की। टीम के साथ बैठक में भाजपा ने प्रत्येक बूथ पर महिला सुरक्षा कर्मियों की तैनाती की मांग की, वहीं कांग्रेस ने अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी को चुनावी प्रक्रिया से दूर रखने का अनुरोध करते हुए आरोप लगाया कि वह चुनावों को प्रभावित कर सकते हैं। कांग्रेस ने सभी दलों की तरफ से कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन सुनिश्चित करने की भी मांग की गई। वहीं, बसपा ने प्रदेश में समय पर चुनाव कराने की मांग करते हुये कोविड के मद्देनजर इन दिनों राजनीतिक रैलियों में जुट रही भीड़ का जिक्र किया। राष्ट्रीय लोकदल के प्रतिनिधिमंडल ने वीवीपैट पर्ची की दोबारा गिनती कराने का अनुरोध किया।