युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। विधानसभा चुनावों के लिए जिला स्तर पर मतदाता सूची का प्रकाशन कर दिया गया है। वर्ष २०१७ के मुकाबले २०२२ की मतदाता सूची में चार लाख १२ हजार, ८१९ मतदाताओं की संख्या बढ़ी है जिसमें महत्वपूर्ण संख्या आधी आबादी की है। यानि इस बार के विधानसभा चुनाव में जिले की आधी आबादी चुनावों की तस्वीर बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। किसी भी प्रत्याशी के लिए आधी आबादी को इग्नोर करना भारी पड़ सकता है। वर्ष २०१७ के विधानसभा चुनावों में महिला मतदाताओं की संख्या १० लाख, ९० हजार, ९२५ थी जो इस बार २०२० में बढक़र १२ लाख, ९४ हजार, २१४ तक पहुंच गई है। पांच सालों में जिले में महिला मतदाताओं की संख्या में दो लाख, तीन हजार, २८९ का इजाफा हुआ है। हर विधानसभा क्षेत्र में जेंडर रेशो में वृद्घि हुई है। जेंडर रेशो की अगर बात करें तो लोनी विधानसभा में एक हजार पुरूष मतदाता पर आठ महिला मतदाताओं की संख्या बढ़ी है। मुरादनगर विधानसभा में एक हजार पुरूष पर ८५१ महिला मतदाता, साहिबाबाद विधानसभा में एक हजार पुरूष पर ७८१ महिला मतदाता, गाजियाबाद विधानसभा में एक हजार पुरूष मतदाता पर ८१६ महिला मतदाता और मोदीनगर विधानसभा में एक हजार पुरूष मतदाता पर ८५५ महिला मतदाताओं की संख्या बढ़ी है। यानि हर विधानसभा में महिला मतदाताओं की संख्या बढ़ी है। ऐसे में महिला मतदाताओं को अपनी ओर लुभाने के लिए हर संभव प्रयास करने होंगे। अपनी नीतियों को आधी आबादी को ध्यान में रखकर चलना होगा ताकि महिला मतदाताओं का झुकाव उनकी ओर हो सके। पांचों विधानसभा में सबसे अधिक महिला मतदाता की संख्या साहिबाबाद में ७२ हजार, ४१४ बढ़ी है तो वहीं सबसे कम मोदीनगर विधानसभा में ३ हजार, ९०६ मतदाता बढ़े हैं।
विधानसभा वर्ष २०२२ वर्ष २०१७ अंतर
लोनी २२६७३२ १९६३७३ ३०५९९
मुरादनगर २०८६८४ १८९४०४ १९२८०
साहिबाबाद ४४०५९४ ३६८१३२ ७२४१४
गाजियाबाद २१०९३४ १८६१८० २४७५४
मोदीनगर १५४७३९ १५०८३३ ३९०६
कुल संख्या १२९४२१४ १०९०९२५ २०३२८९