युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। केंद्र की मोदी सरकार के आठ साल पूरे होने पर भाजपा की ओर से पूरे देश को पांच साल की उपलब्धियां और योजनाओं की जानकारी दी जा रही हैं। इसी के तहत आज केंद्रीय सडक़ परिवहन एवं राजमार्ग राज्यमंत्री व स्थानीय सांसद वीके सिंह ने मोदी सरकार की उपलब्धियों को गाजियाबाद की जनता के सामने रखा। ‘रिपोर्ट टू नेशन’ के तहत भाजपा की ओर से आज एक प्रेसवार्ता रखी गई थी, जिसमें जनरल वीके सिंह ने केंद्र सरकार की उपलब्धियों एवं पिछले आठ वर्षों के दौरान गाजियाबाद के विकास के लिए कराये गये कार्यों का ब्योरा पेश किया। उन्होंने कहा कि २०१४ से पहले देश में ‘सबकुछ चलता है’ की सोच थी, लेकिन अब ‘मोदी है तो मुमकिन है’ की सोच के साथ देश में लगातार बदलाव हो रहा है। पहले जो कभी नहीं हुआ वो आज हो रहा है। २०१४ से पहले वंशवाद, परिवारवाद व जातिवाद का बोलबाला था। अब योग्यता के आधार पर चयन किया जा रहा है। यह सरकार गरीब, किसान, वंचितों की सरकार है। हर तबके के विकास के लिए योजनाएं चलाई गई हैं। सभी वर्गों के लिए कुछ न कुछ किया गया है। जनरल वीके सिंह ने कहा कि देश आगे बढ़े इसी सिद्धांत के साथ पिछले आठ वर्षों के दौरान कार्य किये गये। दुनिया में अब भारत की पहचान एक ऐसे देश के रूप में हो रही है, जहां सबकुछ अच्छा चल रहा है। बुनियादी सुविधाएं बढ़ी हैं। किसानों की आय में बढ़ोत्तरी हुई है। पिछले आठ वर्षों के दौरान केंद्र की मोदी सरकार अपने मूलमंत्र ‘सबका साथ, सबका विश्वास और सबका प्रयास’ से हर वर्ग के जीवन स्तर में सुधार कर रही है। अन्त्योदय और गरीब उन्मूलन योजनाओं के जरिये गरीबी घटाई गई है। उन्होंने कहा कि पिछले आठ वर्षों के दौरान गरीबी २२ प्रतिशत से १० प्रतिशत तक आ गई है। प्रति व्यक्ति आय ७९ हजार से १.५ लाख हो गई है। विदेशी मुद्रा भंडारण दोगुना हुआ है। विदेशी निवेश बढ़ा है। दुनिया की बड़ी-बड़ी कंपनियां भारत में निवेश कर रही हैं। २०१४ से पहले ६.३७ लाख प्राथमिक स्कूल थे। पिछले आठ वर्षों के दौरान ६.३५ लाख नये प्राथमिक स्कूल खोले गये हैं। साक्षरता दर में ६.३ प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है। जनरल वीके सिंह ने कहा कि पिछले आठ वर्षों के दौरान स्वास्थ्य के क्षेत्र में अभूतपूर्व कार्य किये गये। १५ नये एक्स खोले गये हैं। १२ लाख नये डॉक्टरों की नियुक्ति हुई है। १७० नये मेडिकल कॉलेज खोले गये। कोविड संक्रमण के दौरान भारत में किये गये कार्यों को दुनिया में ख्याति मिली है। खुद स्वदेशी वैक्सीन विकसित की गई है। जिसे दुनिया के कई देशों में प्रयोग किया गया। ८० करोड़ लोगों को नि:शुल्क खाद्यान्न वितरित किया गया। कोविड के दौरान हर जिले में ऑक्सीजन प्लांट लगाये गये, जबकि पहले देश में ऑक्सीजन प्लांट नहीं थे। उन्होंने कहा कि सडक़ नेटवर्क को भी विकसित किया गया। सडक़ नेटवर्क के मामले में भारत अब दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा देश बन गया है। इस दौरान २५ हजार किमी नई सडक़ें बनाई गईं। सौर और पवन ऊर्जा के क्षेत्र में भी अभूतपूर्व कार्य किये गये। खाद्यान्न में रिकॉर्ड बढ़ोत्तरी हुई है। ३१६ मिलियन टन भंडारण हुआ है। कृषि निर्यात में भी २३ प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है।
मेकिंग इंडिया के तहत स्वदेशी उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए कई योजनाएं चलाई गई हैं। जनरल वीके सिंह ने बताया कि ६८ हजार से अधिक नये स्टार्टअप शुरू किये गये। सौ से अधिक यूनिकॉन कंपनियां शुरू हुई हैं। १२ करोड़ किसानों को हर साल ६ हजार रुपये की सम्मान राशि दी गई। आयुष्मान योजना के तहत ५० करोड़ लोगों को पांच लाख रुपये स्वास्थ्य बीमा दिया गया। चार करोड़ घरों में जल पहुंचाया गया। २.८ करोड़ घरों तक बिजली पहुंचाई गई। नौ करोड़ महिलाओं को उज्ज्वला योजना के तहत गैस कनेक्शन दिये गये। पीएम आवास योजना के तहत २.३८ करोड़ घर दिये गये। पिछले आठ वर्षों के दौरान ११ करोड़ शौचालय बनाये गये। जनधन योजना के तहत ४५ करोड़ नये खाते खोले गये। मुद्रा योजना के तहत ३४ करोड़ छोटे दुकानदारों को लोन दिये गये। वीके सिंह ने कहा कि पिछले आठ वर्षों के दौरान केंद्र सरकार के एक भी मंत्री के खिलाफ भ्रष्टïाचार के आरोप नहीं लगे हैं, जबकि २०१४ से पहले हर साल भ्रष्टïाचार के नये कीर्तिमान बनाये गये।
गाजियाबाद की योजनाओं का भी किया जिक्र
वीके सिंह ने कहा कि पिछले आठ वर्षों के दौरान गाजियाबाद का भी समुचित और एकीकृत विकास किया गया। इस दौरान जाम से मुक्ति के लिए कई योजनाएं शुरू की गईं। १६ लेन की एनएच-९ को पूरा किया गया। अब गाजियाबाद से मेरठ की दूरी मात्र ३० मिनट की रह गई है। लोनी पुस्ता मार्ग का भी निर्माण किया गया। सहारनपुर मार्ग की मरम्मत का कार्य पूरा हो गया। कानपुर इकोनोमिक कॉरिडोर का काम भी शुरू हो गया है। सिविलियन एयरपोर्ट से कई शहरों के लिए उड़ान शुरू की गई है। रैपिड रेल सिस्टम पर तेजी से काम चल रहा है।
डिजाइन में फॉल्ट से आरओबी में हुई देरी
प्रेसवार्ता के दौरान पूछे गये सवाल पर जनरल वीके सिंह ने कहा कि डिजाइन में फॉल्ट आने के कारण धोबीघाट आरओबी में देरी हुई है। फॉल्ट आने पर रेलवे हर चीज की बारीकी से जांच करता है। जिसमें काफी समय लगता है। रेलवे की जांच के बाद कोविड आ गया। जिस कारण और भी देरी हुई। इस बीच ठेकेदार की मौत हो गई, जिससे देरी बढ़ती गई। अब आरओबी को सही स्थान पर बैठा दिया गया है। जल्द ही इसे लॉन्च किया जाएगा।
जल्द काबू में आएगी महंगाई
युग करवट के सवाल पर जनरल वीके सिंह ने कहा कि महंगाई कई कारणों से बढ़ती है। रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण कच्चे तेल की कीमत बढ़ गई। जिसका सीधा असर आम जरूरतों के सामान पर पड़ा। उन्होंने कहा कि विश्व की सभी अर्थव्यवस्थाएं इस दौरान प्रभावित रहीं। सरकार ने महंगाई पर काबू पाने के लिए कदम उठाये हैं। डीजल और पेट्रोल की एक्साइज ड्यूटी कम की गई है। कई सामानों पर वैट की दर कम की गई है। उम्मीद है कि अगले कुछ महीनों में महंगाई काबू में आएगी। प्रेसवार्ता में प्रदेश मंत्री नरेंद्र कश्यप, सांसद कांता कर्दम, विधायक अतुल गर्ग, अजीतपाल त्यागी, सुनील शर्मा, मंजू सिवाच, दिनेश गोयल, सुरेश कश्यप, महानगर प्रभारी अमित वाल्मीकि, महानगर अध्यक्ष संजीव शर्मा, जिलाध्यक्ष दिनेश सिंघल, मीडिया प्रभारी अश्वनी शर्मा उपस्थित रहे।