युग करवट संवाददाता
गाजियाबाद। युग करवट में छपी खबर ‘लिंक रोड थाना क्षेत्र में मनी ट्रांसफर करने वाले जिस ब्रोकर के साथ सात लाख अस्सी हजार की लूट हुई है, उस वारदात के पीछे खुद ब्रोकर का हाथ हो सकता है’, उस समय अक्षरत: सत्य निकली जब आज लिंक रोड थाने के एसएचओ ब्र्रजेश कुमार सिंह की टीम ने सरेशाम हुई उक्त लूट का खुलासा करते हुए वारदात की साजिश रचने वाले साजिशकर्ता सुनिल कुमार को गिरफ्तार कर लिया। साथ ही लूट में दर्शाई गई पूरी रकम भी बरामद कर ली। इस खुलासे के संदर्भ में एसपी सिटी द्वितीय ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि गत सप्ताह नोएडा निवासी सुनिल कुमार ने पुलिस को सूचना देते हुए बताया था कि मनी ट्रांसफर करने वाली एजेंसी से जुड़ा हुआ है। वह जब लगभग आठ लाख की रकम लेकर जा रहा था, तो बाइक पर सवार होकर आये बदमाशों ने वैशाली मेट्रो स्टेशन के पास पहले तो उसकी स्कूटी में टक्कर मारकर उसे नीचे गिरा दिया और गन प्वाइंट पर उसके पास रखी लगभग आठ लाख की रकम लूट ली। श्री सिंह ने बताया कि पुलिस को उक्त वारदात उस समय संदिग्ध दिखाई दी, जब ब्रोकर ने पुलिस के द्वारा की गई पूछताछ के दौरान कई बार बयान बदले। उसके बाद पुलिस ने वैज्ञानिक तकनीकि अपनाते हुए जब वारदात के खुलासे के प्रयास शुरू किये तो वादी की साजिश भी गुत्थी सुलझती चली गई। कई दिनों की जांच के बाद पुलिस ने सुनिल कुमार को गिरफ्तार करके लूट में दर्शाई गई संपूर्ण रकम बरामद कर ली। श्री सिंह ने बताया कि उक्त वारदात का ड्रामा रचने से पहले सुनिल कुमार ने अपने एक दोस्त की सहायता भी ली थी। पुलिस ने उस शख्स से भी गहन पूछताछ की तो सुनिल की साजिश पूरी तरह से सामने गई।