यूपी ने कोरोना की दूसरी लहर को संभाला: मोदी
युग करवट संवाददाता
वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में हैं। कोरोना काल में करीब आठ महीने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी का वाराणसी दौरा हो रहा है। अपने इस दौरे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काशी को करीब 1500 करोड़ से अधिक की योजनाओं की सौगात दी, जिसमें बहुचर्चित रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर भी शामिल है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सुबह करीब 10:30 बजे वाराणसी एयरपोर्ट पर पहुंचे। जहां उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उनका स्वागत किया।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज लंबे वक्त के बाद वाराणसी के लोगों से सीधी मुलाकात का अवसर मिला है। वाराणसी के विकास के लिए जो कुछ भी हो रहा है, वो सबकुछ महादेव के आशीर्वाद से हो रहा है। कोरोना काल के बीच भी काशी ने दिखा दिया कि वो रुकती नहीं है, काशी थकती नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले कि कोरोना की दूसरी लहर ने पूरी ताकत के साथ हमला किया, लेकिन वाराणसी और उत्तर प्रदेश ने इसका मुकाबला किया। उत्तर प्रदेश की आबादी दुनिया के कई बड़े देशों से भी ज्यादा है, उस यूपी ने कोरोना की दूसरी लहर को बेहतर तरीके से संभाला है।
शहर के अलग-अलग हिस्सों
में देख सकेंगे आरती
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यूपी में मेडिकल कॉलेज की संख्या चार गुनी हो गई है। जबकि करीब साढ़े पांच सौ से अधिक ऑक्सीजन प्लांट प्रदेश में लगाए जा रहे हैं, 14 प्लांट की शुरुआत आज वाराणसी में ही हो गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि शहर के अलग-अलग हिस्सों में एलईडी स्क्रीन लग रही हैं। गंगा घाट और काशी विश्वनाथ मंदिर में होने वाली आरती का प्रसारण अब पूरे शहर में हो पाएगा।
इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में काशी ने देश और दुनिया के सामने अपनी नई पहचान बनाई है। नई काशी ने आध्यात्मिक-सांस्कृतिक पहचान को साथ लेते हुए खुद को स्मार्ट काशी के रूप में प्रस्तुत किया है। सीएम योगी ने कहा कि पिछले डेढ़ साल से देश-दुनिया कोरोना से ग्रस्त है, इस वक्त में पीएम मोदी ने कुशल नेतृत्व दिया है। पिछले सात साल में काशी में 10 हजार करोड़ रुपये से अधिक की योजना पूरी हुई हैं, जबकि इतनी ही योजनाओं पर काम किया जा रहा है। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि काशी जिन बातों के लिए तरसती थी, आज उन्हीं क्षेत्रों में दुनिया के लिए प्रेरणा बन रही है। अपने व्यस्त कार्यक्रम के बीच प्रधानमंत्री ने वक्त-वक्त पर वाराणसी के लिए समय निकाला और यहां की अगुवाई की।