नगर संवाददाता
गाजियाबाद (युग करवट)। क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय द्वारा साल दर साल पासपोर्ट धारकों की संख्या में इजाफा हो रहा है। गत आठ महीनों के आंकडों अगर नजर डालें तो पिछले आठ महीनों में सवा लाख पासपोर्ट धारकों की संख्या में इजाफा हुआ है। वर्ष २०२३ में सबसे अधिक तीन लाख १९हजार ६७६ पासपोर्ट बने हैं जबकि वर्ष २०१६ में एक लाख ९८ हजार ३९२ पासपोर्ट बने हैं। साल दर साल पासपोर्ट बनवाने वालों का आंकडा बढ़ रहा है। इन आठ सालों में विदेश जानों वालों की संख्या में भी खासा इजाफा हुआ है। पढाई से लेकर वहां जॉब करने वालों की संख्या साल दर साल बढ रही है जिसकी वजह से पासपोर्ट धारकों की संख्या में बढोत्तरी हो रही है। कोरोना काल में पासपोर्ट बनवाने वालों की संख्या में जरूर कमी आई थी लेकिन वह भी दो साल तक रही। वर्ष २०१९ में कोरोना काल की शुरुआत रही लेकिन उस दौरान भी दो लाख ८८ हजार ३९ लोगों ने पासपोर्ट बनवाए थे। लेकिन कोविड काल का पीक होने के कारण विदेश यात्राओं पर रोक लग गई थी, उस दौरान यानि वर्ष २०२० में एक लाख ९० हजार नौ लोगों के पासपोर्ट बने थे तो अगले साल वर्ष २०२१ में एक लाख ४६ हजार ५७० लोगों के पासपोर्ट बन सके थे। विदेश यात्रा पर रोक हटने और कोरोना का प्रकोप कम होने पर एक बार फिर पासपोर्ट बनवाने वालों की संख्या बढी और २०२२ में दो लाख ४१ हजर १६८ लोगों ने पासपोर्ट बनवाएं। लेकिन वर्ष २०२३ में इस संख्या में और इजाफा हुआ है तीन लाख १९ हजार ६७६ लोगों ने पासपोर्ट बनवाएं। क्षेत्रीय पासपोर्ट अधिकारी अनुज स्वरूप के मुताबिक पासपोर्ट संबंधी सेवाओं में लगातार विस्तार हो रहा है। काम की प्रक्रिया में भी तेजी आई है। इसकी वजह से पासपोर्ट बनवाने वालों की संख्या भी बढ रही है। जब से उन्होंने कार्याभार संभाला है तब से लंबित फाइलों का तेजी से निस्तारण किया जा रहा है जिससे पासपोर्ट जारी होने वालों की संख्या बढ रही है।