राहुल गांधी ने बताई केंद्र सरकार की तानाशाही
नई दिल्ली (युग करवट)। पहले कांग्रेस के बैंक खाते फ्रीज कर दिए गए। उसके बाद आईटी टिब्यूनल ने फ्रीज हटा दिया। अब मामले क सुनवाई बुधवार को हागी। इस बीच कांग्रेस ने केन्द्र सरकार पर आईटी की कार्रवाई को लेकर गंभीर आरोप लगाए। पार्टी के प्रवक्ता अजय माकन ने आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि आईटी ने 2018-19 के आयकर रिटर्न के आधार पर कांग्रेस और यूथ कांग्रेस के खातों को फ्रीज कर दिया है। उन्होंने कहा कि आयकर विभाग ने इन दोनों खातों से 210 करोड़ रुपये की रिकवरी का भी आदेश दिया है। हमारे अकाउंट में जो भी क्राउडफंडिंग से जुटाई गई राशि है, उसे हमारी पहुंच से दूर कर दिया गया है। माकन ने कहा कि चुनाव के एलान से महज दो हफ्ते पहले ही विपक्षी पार्टी का अकाउंट फ्रीज कर दिया गया। यह लोकतंत्र को फ्रीज करने जैसा है। माकन ने बताया कि इस खाते में एक महीने की सैलरी भी दी है। हमने आयकर विभाग को उन दानकर्ताओं के नाम भी दिए हैं। कांग्रेस नेता ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि क्या वे यही चाहते हैं कि देश में सिर्फ एक ही पार्टी रहे। माकन ने कहा, हमें एक दिन पहले ही जानकारी मिली थी कि बैंकों को हम जो चेक भेज रहे थे, उनका निपटारा नहीं हो पा रहा था। जांच पर पता चला कि यूथ कांग्रेस का बैंक अकाउंट फ्रीज कर दिया गया है। इसके साथ ही कांग्रेस पार्टी के खाते भी बंद होने की बात सामने आई। कुल चार अकाउंट फ्रीज किए गए हैं। आयकर विभाग की तरफ से बैंकों को यह निर्देश दिया गया है कि हमारे कोई भी चेक स्वीकार न करें और हमारे खातों में जो भी राशि है उसे रिकवरी के लिए रखा जाए। उसके बाद मामला आईटी ट्रिब्यूनल में चला गया। जहां ट्रिब्यूनल ने फ्रीज को हटा दिया। इस मामले पर कांगे्रस नेता राहुल गांधी ने भी बयान जारी किया। उन्होंने कहा कि कांगे्रस इस तानाशाही के सामने झुकेगी नहीं। हम लोकतंत्र के लिए लड़ते रहेंगे। उधर युवक कांगे्रस ने दिल्ली में इस मुद़्दे को लेकर जोरदार प्रदर्शन किया