युग करवट ब्यूरो
कानपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को कानपुर में रहे। उन्होंने आईआईटी के दीक्षांत समोराह में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की। आइआइटी निदेशक अभय करींदकर ने स्मृति चिह्न भेंट करके उनका स्वागत किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि ये दौर 21वीं सदी पूरी तरह टेक्नोलाजी वाला है, यह अलग अलग क्षेत्रों में अपना दबदबा बना रहा है। बिना टेक्नोलाजी के जीवन अधूरा है, अब जीवन और टेक्नोलाजी के स्पर्धा का युग है। आइआइटी टैलेंट और टेक्नोलाजी की इक्यूबेशन सेंटर हैं।
प्रधानमंत्री ने सभागार में मौजूद डिग्री हासिल करने वाले छात्रों से कहा कि मेरा आप पर भरोसा है। और मै आज इतनी बातें कह रहा हूं, इतनी चीजें कर रहा हूं तो मुझे उनमें आपका चेहरा नजर आता है। आज देश में एक के बाद एक बदलाव हो रहे हैं। उनके पीछे आपका ही चेहरा नजर आता है। आज जो देश लक्ष्य प्राप्त कर रहा है, उसकी शक्ति आपसे ही मिले। आप ही हैं, जो करेंगे और आपको ही करना है। अनंत संभावनाएं आपके लिए ही हैं, आपको ही साकार करना है। देश जब आजादी के 100 वर्ष मनाएगा। उस सफलता में आपके पसीने की महक होगी आपके परिश्रम की पहचान होगी। आप भली प्रकार जानते हैं, कि आपका काम आसान करने के लिए किस तरह से काम किया गया। पिछले सात सालों में कई कार्यक्रम शुरू किए गए।
देश युवाओं के लिए नये रास्ते बना रहा है। साथियों एक और जरूरी बात जो हमे याद रखनी है। आज से शुरू हुई यात्रा में सहूलियत के लिए बहुत शार्टकट बताएंगे। मै आग्रह करूंगा कम्फर्ट के बजाय चैलेंज जरूर चुनना। क्योंकि आपको चाहे या न चाहें, जीवन में चुनौतियां आनी ही आनी हैं। आप अपने कैरियर में सफल हों, आपकी सफलता देश की सफलता बने। इसी के साथ अपनी बात समाप्त करता हूं।
प्रधानमंत्री ने रिमोट का बटन दबाकर आइआइटी कानपुर के डिजीटिल डिग्री ट्रांसमिशन का शुभांरभ किया। इसके बाद उन्होंने भौतिकी वैज्ञानिक प्रो. रोहिणी एम गोडबोले, इंफोसिस के सह संस्थापक सेनापथी क्रिस गोपालकृष्णन और शास्त्रीय गायक पद्मश्री पंडित अजय चक्रवर्ती को मानद उपाधि प्रदान की। उनके साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का स्वागत किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कानपुर पहुंचने पर खराब मौसम से रूट प्लान में बदलाव हो गया। चकेरी एयरपोर्ट से हेलीकाप्टर की बजाए प्रधानमंत्री को कड़ी सुरक्षा के बीच लेकर फ्लीट सडक़ मार्ग से आइआइटी के लिए रवाना हुई।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मंगलवार को कानपुर में मेट्रो का शुभारंभ के साथ ही 12,600 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण करेंगे।